SHIVPURI NEWS - डॉक्टर सोते रहे नर्सों ने कराया प्रसव, फस गया नवजात-मौत, हंगामे के बाद जिंदा बता दिया

Bhopal Samachar
शिवपुरी। शिवपुरी जिले का मेडिकल कॉलेज अपने इलाज से अधिक विवाद के लिए अपनी पहचान बना चुका है,आपसी राजनीति का आखडा बन चुके मेडिकल कॉलेज में आज एक नवजात को डिलीवरी के बाद मृत घोषित कर दिया,इसके बाद जब परिजनों ने हंगामा कर दिया तो उसे जिंदा बता दिया। परिजनों ने प्रसूता की डिलीवरी में गंभीर लापरवाही के आरोप लगाए है,इस हंगामे में बाद शिवपुरी मेडिकल कॉलेज ने अपनी सफाई में वीडियो भी जारी की है।

जानकारी के मुताबिक कमलागंज की रहने 24 साल की प्रसूता नेहा जाटव को तीन दिन पहले मेडिकल कॉलेज में डिलीवरी के लिए भर्ती कराया गया था। गुरुवार-शुक्रवार की रात साढ़े तीन बजे प्रसूता को डिलीवरी को लेबर रूम में ले जाया गया था। करीब साढ़े चार बजे परिवार को बेटा पैदा होने की सूचना दी गई थी। लेकिन शुक्रवार की सुबह साढ़े सात बजे बच्चे को मृत बताते हुए नवजात के शव सुपुर्दगी के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने की बात नर्सों ने कही।

लेकिन परिजनों ने डिलीवरी में लापरवाही के आरोप लगाते हुए मेडिकल कॉलेज में हंगामा कर दिया था। हंगामे को शांत कराने एक महिला डॉक्टर पुलिस बल को अपने साथ लेकर परिजनों के बीच पहुंची और नवजात को जिंदा बताते हुए उसे वेंटिलेटर पर होना बता दिया।

डॉक्टर सोते रहे और नर्स ने कराया प्रसव

परिजन जसपाल भारती ने बताया कि नेहा को डिलीवरी के लिए मेडिकल कॉलेज में दो दिन पहले भर्ती कराया गया था। डॉक्टर ने नेहा को गुरुवार को कई दर्द के इंजेक्शन दिए थे। नेहा को अधिक दर्द हो रहा था। इसके चलते परिवार के सदस्यों ने डॉक्टर को नेहा की डिलीवरी ऑपरेशन से करने की बात कही थी। लेकिन डॉक्टर नहीं मानी। इसके बाद रात साढ़े तीन बजे नेहा को प्रसव के लिए ले जाया गया था।

इस डिलीवरी को नर्सों ने डॉक्टर की गैरमौजूदगी में किया, जबकि डॉक्टर अपने चैंबर में सो रहे थे। यह सब होता नेहा की चाची इंद्रा जाटव ने देखा था। डिलीवरी के दौरान बच्चा फंस गया। जिससे नर्सें घबरा गई थी। नर्स जब तक सो रहे डॉक्टर को जगाकर लाईं तब तक बच्चे की मौत हो गई थी। इसके बाद हमें सही बात नहीं बताई गई।

मेडिकल कॉलेज में बरती गई लापरवाही और परिजनों के हंगामे के बाद मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक डॉ आशुतोष चौऋषि ने परिजनों से चर्चा की और जांच कर कार्रवाई की बात कही। तब कहीं जाकर परिजन शांत हुए। बता दें कि चर्चा के 15 मिनट बाद नवजात उस नवजात बच्चे को मृत बताते हुए शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया। जिसे पहले मृत होने के बाद जिंदा बता दिया था। इस मामले में मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक डॉ आशुतोष चौऋषि का कहना है कि मामले की जांच के लिए एक टीम गठित की है। जांच रिपोर्ट के आधार पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।
G-W2F7VGPV5M