SHIVPURI NEWS - शिक्षा विभाग के अपर सचिव के शिक्षकों को कॉल,निलंबन से डरे शिक्षकों ने फोनपे पर रिश्वत,यह बोले डीओ

Bhopal Samachar

संजीव जाट @ बदरवास।  बदरवास विकासखंड के शिक्षकों में एक फोन कॉल ने कारण हड़कंप मचा हुआ है। भोपाल से अपर सचिव के नाम से निलंबन की दी जा रही कथित धमकी भरे फोन कॉल से शिक्षक दहशत में हैं।

जानकारी के अनुसार सोमवार को बदरवास ब्लॉक के लगभग आधा दर्जन शिक्षकों को कॉल भोपाल से शिक्षा विभाग के अपर सचिव सुनील जैन के नाम से फोन आए और विभिन्न प्रकार की बातें और धमकी संबंधित फोन करने वाले ने दी, और साथ में कार्यवाही और निलंबित करने की भी धमकी दी गई।

सांडर विद्यालय में पदस्थ शिक्षिका उमा भील,बरखेड़ा खुर्द विद्यालय की शिक्षिका दिव्यांशी दीक्षित को भी इस प्रकार की धमकी भरा कथित फोन कॉल आया था कि आपकी शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर है और आपके द्वारा अच्छे से शैक्षिक कार्य नहीं कराया जा रहा है और 24 घंटे में आपको नोटिस आएगा और आपकी सेवाएं समाप्त की जा रही हैं और तीन महीने के लिए निलंबित किया जा रहा है।जिससे वो भारी दहशत में हैं।

भोपाल से सुनील जैन अपर सचिव के नाम से मोबाइल नम्बर 7388377532 से शिक्षकों को फोन आ रहे हैं। गौरतलब है कि ये फोन अधिकतर महिला शिक्षकों को लगाए गए थे। भोपाल से आ रहे अपर सचिव सुनील जैन के  नाम से इस तथाकथित फोन कॉल से शिक्षकों में डर और दहशत का माहौल है और शिक्षक ये निर्णय नहीं कर पा रहे हैं कि कॉल लगाने वाला व्यक्ति सही है या गलत।

अगर कोई शिकायत या कोई बात होती तो जिला स्तर या ब्लॉक स्तर के अधिकारी फोन या कार्यवाही करते। वर्तमान में फर्जी कॉल लोगों को परेशान करने का काम कर रहे हैं। शिवपुरी समाचार डॉट के  प्रतिनिधि ने जब इस तथाकथित अपर सचिव के मोबाइल नंबर 7388377532 पर बात की तो संबंधित द्वारा बताया गया कि इनकी शिकायत का फैक्स आया है और हम हमारा काम कर रहे हैं और जब नोटिस पहुंचेगा तो पता भी चल जायेगा। और भोपाल से इसकी जांच टीम भेजी जाएगी तत्पश्चात कार्यवाही की जायेगी। और आगे के सवाल जवाब के पूर्व फोन काट दिया गया।

इस मामले में जानकारी मिल रही है कि बदरवास के लगभग 3 दर्जन शिक्षकों का निरीक्षण से भरे यह कॉल आए है, निरीक्षण में गलतियों के ऊपर शिक्षकों ने फोन पर ही सफाई दी और कुछ गिडगिडाए भी है, धीरे से उन्हें फोनपे नंबर भी दिया गया है,कई शिक्षकों ने कथित अपर सचिव को रिश्वत भी दी है हालांकि इस फोन की पोल खुलने के बाद रिश्वत देने वाले शिक्षक सामने नही आ रहे है वह कुछ ऐसे शिक्षक जिन्है निलंबन की धमकी दी और वे डर गए थे उन्होने राहत की सांस ली है।

सीधे कॉल आना संदेह प्रद हैं
मामला संज्ञान में आया है,लेकिन इस प्रकार सीधे शिक्षकों के मोबाइल पर फोन आना संदेह प्रद है। चुकी अगर कोई कार्यवाही की भी है तो हमारे विभाग के जिला शिक्षा अधिकारी के संज्ञान में होना चाहिए था। पर इस प्रकार फोन आना गलत है और मेरे संज्ञान में आया है। करीब आधा दर्जन स्कूलों पर पदस्थ महिला शिक्षिकाओं को इनके द्धारा फोन लगाए गए है ।
अंगद सिंह तोमर
बीआरसीसी बदरवास

इस नाम का अधिकारी भोपाल में पदस्थ नहीं हैं
सुनील जैन अपर सचिव नाम का कोई अधिकारी भोपाल में पदस्थ नहीं है और विभाग में अपर सचिव की कोई पोस्ट भी नहीं है।कोई फर्जी व्यक्ति इस प्रकार के फोन लगा रहा है। अगर कार्यवाही की बात होती तो पहले हमारे पास जानकारी आती।
–समरसिंह राठौर
जिला शिक्षा अधिकारी शिवपुरी
G-W2F7VGPV5M