Shivpuri News- जिले की 2275 आंगनबाड़ियों में लटके ताले, कार्यकर्ताओं की हड़ताल

शिवपुरी। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका ने कलेक्ट्रेट के पास प्रदर्शन शुरू किया अभी करो, अर्जेंट करो, हमको परमानेंट करो। विरोध प्रदर्शन करते हुए यह बात आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं ने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन के दौरान कही। खास बात यह है कि 6 दिन की प्रदर्शन की चेतावनी पूर्व में ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने दे दी थी और इसी संदर्भ में यह प्रदर्शन सोमवार से शुरू हुआ है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने बताया कि जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्र में 6 दिनों तक ताले जड़े रहेंगे।

प्रदर्शन के दौरान महिला और बाल विकास विभाग के कार्यकर्ताओं द्वारा कोई काम नहीं किया जाएगा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता संघ की जिला अध्यक्ष साधना पाठक का कहना है कि, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका संघ भारतीय मजदूर संघ आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं की मांगों को लेकर संघर्ष कर रहा है। कई मांगों को पूरा किए जाने को लेकर प्रदेश सरकार द्वारा आश्वासन दिया जा चुका है। उसके बावजूद आज तक मांगों को पूरा नहीं किया। पाठक ने बताया कि आंगनबाड़ी के सभी कार्यकर्ता ने निर्णय लिया है कि वह 23 जनवरी से शनिवार 28 जनवरी तक हड़ताल करेंगे। कोई कार्य नहीं करेंगे।

इन मांगों के लिए कर रहे हैं विरोध प्रदर्शन

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका संघ की जो मांग है उसमें आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं सहायिकाओं और मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को शासकीय कर्मचारी घोषित कर सभी शासकीय सुविधाओं का लाभ दो।

प्रदान किए जाने सरकार के द्वारा घोषित 1500 रुपए एरियर्स के साथ भुगतान किया जाने, राज्य सरकार को केंद्र सरकार से समन्वय कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की नियुक्ति प्रक्रिया के नियमों में संशोधन किए जाने, मानदेय या मानदेय की जगह नियमित और सीधी भर्ती की जाने और नियमावली बनाई जाने जब तक नियुक्ति प्रक्रिया में संशोधन नहीं किया जाता तब तक अतिरिक्त मानदेय में केन्द्र से निर्धारित महंगाई भत्ते को लागू कर भुगतान किया जाए।

कम से कम 18000-9000 रुपए कार्यकर्ता सहायिका को भुगतान किए जाने सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका और मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को विभाग की ओर से कम से कम पांच लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कराया सहित अन्य मांगे शामिल है।