मुख्यमंत्री पथ विक्रेता योजना बनी दिव्यांग युवक का सहारा, कोरोना ने उजाड़ दिया था व्यवसाय- Shivpuri News

शिवपुरी।
शिवपुरी जिले में सुशासन सप्ताह मनाया जा रहा है। इसकी के तहत अधिकारी गांव.गांव जाकर ग्रामीणों से रूबरू हो रहे हैं। कई लोगों की समस्याओं का निपटारा भी मौके पर ही किया जा रहा है। इस बीच कई ग्रामीणों की सफलता की कहानी भी निकलकर सामने आ रहीं हैं। ऐसी ही एक सफलता की कहानी आज कोलारस में आयोजित शिविर के दौरान एक दिव्यांग भरत आदिवासी की निकलकर सामने आई है।

दिव्यांग भरत आदिवासी ने बताया कि कोरोना काल से पहले वह साइकिल पंचर जोड़ने का काम करता था कोरोना के आने के बाद उसका काम बंद हो गया था। वह आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा था। एक दिन उसने मुख्यमंत्री पथ विक्रेता योजना को जाना और उसका लाभ लिया और पहले 10 हजार के लोन को चुकाने के बाद अब उसने 20 हजार रुपए का लोन लेकर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाया। दिव्यांग भरत के उत्साह को देखकर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने उनकी हौसला अफजाई की और भरत के काम की सराहना की।

भरत आदिवासी ने बताया कि उसकी साइकिल रिपेयरिंग की दुकान है। कई वर्षों से यह काम कर रहा हैं। जब मुख्यमंत्री पथ विक्रेता योजना के बारे में पता चला तो उसने भी योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन किया। उसे योजना के तहत जो राशि मिली उसका उपयोग अपनी साइकिल रिपेयरिंग की दुकान के लिए किया। उसने धीरे.धीरे करके यह राशि चुका दी। अब उसे 20 हज़ार का लोन लिया है जिससे वह अपना काम बढ़ा सकेगा।

पति-पत्नी दोनों ही है दिव्यांग

भरत आदिवासी और उनकी पत्नी आशाबाई दोनों ही दिव्यांग हैं। उनके दो बच्चे हैं। भरत आदिवासी ने बताया कि वह और उनकी पत्नी दोनों पूरे उत्साह से काम कर रहे हैं और अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं।

दिव्यांग भरत के उत्साह को देखकर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने उनकी सराहना की और इसी प्रकार लगन से काम करने के लिए प्रेरित किया और कहा कि सभी को भरत से सीखने की जरूरत है कि मेहनत करके व्यक्ति किस प्रकार आगे बढ़ सकता है।