महिलाएं एवं युवतियां केसरिया वस्त्र पहनकर करेंगी विरोध, सम्मेद शिखर को पवित्र क्षेत्र घोषित किया जाए- khaniyadhana News

खनियांधाना।
जैन समाज के सर्वोत्तम तीर्थ स्थान सम्मेद शिखरजी को पर्यटन स्थल बनाने से रोकने के लिए जैन समाज के लोगों द्वारा विरोध प्रदर्शन व रैली सोमवार 19 दिसंबर को सुबह 10:30 बजे से निकाली जाएगी । यह रैली बड़ा जैन मंदिर से प्रारंभ होकर बस स्टैंड होते हुए तहसील कार्यालय पहुंचेगी जिसमें जैन समाज के सैकड़ों की संख्या में महिला.पुरुष हाथों पर काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शित करेंगे तथा तहसील पर पहुंचकर प्रधानमंत्री एवं राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन तहसीलदार को सौंपेंगे।

आंदोलन समिति के सदस्य राजीव जैन एवं सचिन मोदी ने बताया कि जैन समाज के करोड़ों श्रद्धालुओं की आस्था के केंद्र एवं अनंत मुनिराज तीर्थंकरों की मोक्ष स्थली सम्मेद शिखर जी को केंद्र सरकार द्वारा पर्यटन स्थल एवं वन्य जीव पर्यावरण केंद्र घोषित करने के लिए अधिसूचना जारी की गई है । जिसके जरिए सरकार इसे पर्यटन स्थल बनाना चाहती है ए जबकि जैन समाज की मांग है कि इस पूरे पर्वत श्रृंखला को पवित्र क्षेत्र घोषित किया जाए ताकि यहां पर किसी भी प्रकार की गैर धार्मिक गतिविधियों को बढ़ावा ना मिले ।

जैन मिलन के अध्यक्ष एकत्व पुजारी ने बताया कि इसके विरोध में जैन समाज द्वारा देश में कई स्थानों पर आंदोलन किए जा रहे हैं तथा रविवार को दिल्ली के लाल किला मैदान में भी विशाल रैली ए धरना प्रदर्शन चल रहा है। इसी क्रम में सोमवार 19 दिसंबर को खनियाधाना में भी जैन समाज द्वारा विशाल जुलूस निकालकर ज्ञापन सौंपा जाएगा जिसके लिए जैन समाज के सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु जन प्रातः 10:30 बजे से बड़ा जैन मंदिर से विशाल विरोध प्रदर्शन रैली निकाल कर इस निर्णय का विरोध करेंगे ।

इस विरोध प्रदर्शन रैली में सभी पुरुष एवं युवा वर्ग सफेद कुर्ता पजामा में तथा केसरिया वस्त्रों में शामिल होंगी तथा अपने हाथों में तख्ती लेकर व काला रिबन बांधकर सरकार के इस निर्णय का विरोध करके जैन तीर्थ सम्मेद शिखरजी की पवित्रता कायम रखने की मांग करेंगे।