लाखों खर्च फिर भी स्कूल और आंगनबाड़ी में पानी को तरसे बच्चे, ठेकेदारों और अधिकारियों ने योजना को डूबा दिया- Badarwas News

संजीव जाट बदरवास।
बदरवास विकासखण्ड में संचालित प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों के अलावा आंगनवाड़ी केन्द्रों के बच्चों को शुद्ध पेयजल सुविधा मुहैया कराने के उद्देश्य से जल जीवन मिशन योजना के तहत लागू की गई योजना बदरवास विकास खण्ड में दम तोड़ती नजर आ रही है।

जानकारी के अनुसार प्रदेश भर में जल जीवन मिशन के तहत विद्यालयों और आंगनवाड़ी केंद्रों में पढ़ रहे बच्चों को स्थाई रूप से शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के उद्देश्य से योजना लागू की गई थी जिसके तहत स्कूल, आंगनवाड़ी में लगे हैंडपंप को चालू रखते हुए उसमें मोटर डालकर टंकी निर्माण करना था जिससे शौचालय बाथरूम और पेयजल हेतु प्लेटफार्म बनाकर उसमें आधा दर्जन टोंटी लगाकर कनेक्शन करना था।

एक लाख रुपए से काफी अधिक राशि प्रत्येक स्कूल को शासन ने स्वीकृत की थी। शासन ने इस योजना के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को एजेंसी बनाकर काम पूरा करने की जिम्मेदारी दी थी लेकिन बदरवास ब्लॉक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की उदासीनताए लापरवाही और ठेकेदारों के गठजोड़ और मिलीभगत के कारण लक्ष्य के अनुसार आज भी 265 विद्यालय व 69 आंगनबाड़ी केन्द्रों में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं बन पाई। जिससे नौनिहाल पेयजल के लिए तरस रहे हैं और दूषित पानी पीने को मजबूर हैं।

चूंकि आंगनबाड़ी एवं स्कूलों पर शुद्ध पानी उपलब्ध हो इस उद्देश्य से करोड़ों रुपए खर्च तो कर दिए लेकिन छात्र छात्राओं को पीने के लिए बनाई व्यवस्था से नलों में एक बूंद भी नहीं आया। कई जगह तो मोटर ही नहीं डाली गईं और न ही फिटिंग की गई और कई जगह मोटर डालकर निकाल ली गई हैं और कई जगह तो टंकी ही नहीं बनी और बनाई हैं तो वो भी इतनी घटिया क्वालिटी की बनाई हैं जो कई जगह जमींदोज हो गई हैं। प्रदेश के मुरैना सहित कई स्थानों पर स्कूलों में बनी घटिया क्वालिटी की टंकियों के गिरने से बच्चों की मौत की घटनाएं हो चुकी हैं।

बदरवास ब्लॉक में भी किसी दिन ऐसा हादसा या अनहोनी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और ठेकेदारों के भ्रष्टाचारी गठबंधन द्वारा बनाई गई इन टंकियों से हो सकता है। विभाग ने भ्रष्टाचार के बल पर स्कूल और आंगनबाड़ियों के नौनिहालों की जान से खिलवाड़ करने का जबरदस्त कृत्य किया है। पीएचई और ठेकेदार की मिलीभगत से भ्रष्टाचार की इस जल सप्लाई में बड़ा ही अजीब और लापरवाही का आलम रहा कि बोर मैं मोटर डाली गई लेकिन इस मोटर को चलाने के लिए बिजली कनेक्शन ही नहीं दिया गया और यही बात ठेकेदारों और विभाग को लाभदायक सिद्ध हुई क्योंकि कई स्थानों पर मोटर चलाने के कुछ दिनों बाद ही निकाल ली गईं। पीएचई और ठेकेदारों के इस मिलीभगत और गठजोड़ ने बच्चों को पेयजल के लिए जो प्लेटफार्म बनाए हैं वो इतनी घटिया बनाए हैं कि कई जगह इनके अवशेष भी नहीं बचे हैं।

बच्चों को पानी पीने के लिए बनाए गए इन प्लेटफार्म में मानकों की धज्जियां उड़ाई गई हैं। कई स्कूल में इतने ऊंचे प्लेटफार्म बनाए हैं जहां नोनिहाल पहुंच ही नहीं पाते तो कई जगह बहुत ही नीचे प्लेटफार्म बनाए गए हैं।नियमानुसार बच्चों को शुद्ध पेयजल हेतु बने इन प्लेटफार्म में उच्च गुणवत्ता की नल टोन्टी फिटिंग कर टाइल्स लगाए जाने थे लेकिन पूरे बदरवास ब्लॉक में किसी भी स्कूल या आंगनवाड़ी में बने प्लेटफार्म में टाइल्स नाम की कोई चीज नहीं लगाई गई।

सरकार द्वारा स्कूल और आंगनबाड़ी के नौनिहालों को पेयजल एवं अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए पानी सप्लाई की अच्छी योजना बनाई थी लेकिन इस योजना का धरातल पर क्रियान्वयन में घोर लापरवाही और जबरदस्त भ्रष्टाचार किया गया है और शासन की एक अच्छी योजना की धज्जियां उड़ाकर अधिकारी और ठेकेदारों के गठजोड़ ने अपनी जेबें गर्म कर ली हैं और सरकार की इस महत्वाकांक्षी बच्चों को पानी उपलब्ध कराने की योजना पर लापरवाही और भ्रष्टाचार ने पानी फेर दिया है।

क्या कहते है जनप्रतिनिधि

मामला सज्ञान में आते ही हमारे द्धारा बिभाग से जानकारी मांगी है क्योकि छात्र छात्राओं एव आंगनबाड़ी पर सुबिधा की दृष्टि से यह नलजल योजना की व्यवस्था की गई थी लेकिन उसका क्रियान्वयन नहीं होने के कारण हमारे द्वारा उक्त पूरे मामले को लेकर विभाग से पत्र लिखकर जानकारी मांगी गई है अगर लापरवाही है तो उक्त दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी 
नेहा यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवपुरी

बदरवास नगर की आंगनबाड़ियों पर जाकर देखा तो वहां कोई टँकी नही बनाई है जबकिविभाग द्धारा बनाया जाना दिखाया है उक्त पूरे मामले को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत करुगा
राहुल जाट,सभापति महिला बाल विकास समिति बदरवास
पार्षद वार्ड 6
...
मेने देखा है कि बदरवास नगर के स्कूलों में इनके द्वारा घटिया निर्माण कर टंकी तो बना दी गई हैं लेकिन उनमें पानी की कोई व्यवस्था नहीं की गई है उक्त पूरे मामले को लेकर मेरे द्वारा वर्ष अधिकारियों को शिकायत की जाए
सीमा दिलीप चौधरी,सभापति शिक्षा समिति बदरवास