Shivpuri News- 5 सैकड़ा सफाईकर्मी फिर भी शहर कचरे के ढेर पर: किचन कैबिनेट में मुक्त होंगे कर्मचारी

शिवपुरी। शिवपुरी नगर पालिका पर 5 सैकड़ा से अधिक सफाई कर्मियों का अमला हैं फिर भी स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रदेश में नीचे से दूसरा स्थान,नगर पालिका शिवपुरी को शर्म में डूब जाने वाले रिजल्ट फिर भी सुधर नहीं रही है नपा की कार्यप्रणाली। बताया जा रहा हैं कि नपा की अफर शाही के कारण ही यह स्थिति हैं। बुधवार का आज नगर पालिका अध्यक्ष की किचन कैबिनेट में सफाई का मुद्दा प्राथमिकता में रहेगा और इस किचन कैबिनेट की बैठक में कई कर्मचारी मुक्त होकर अपने मूल कार्य की ओर लौट सकते हैं।

38 कर्मचारियों अपनी ड्यूटी से गायब-भुगतान भी किया गया

नगर पालिका के पास 494 सफाईकर्मी हैं फिर भी शहर में जगह.जगह गंदगी पसरी रहती है। यही कारण रहा कि स्वच्छ सर्वे में हमारा शहर पिछड़ गया। हालात यह हैं कि 38 कर्मचारी तो 200 से 400 दिन से ड्यूटी से ही गायब हैं यानी ड्यूटी करने ही नहीं आए। इस बीच लंबे समय तक इन्हें भुगतान भी किया गया। अब नगर पालिका ने ऐसे कर्मचारियों को नोटिस थमाए हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, कई कर्मचारी ऐसे हैं जिन्हें सफाई के मूल काम के बजाय दूसरे कामों में लगा दिया गया है।

पीआईसी में उठेगा मुद्दा

कुछ कर्मचारी नपा के वाहन चला रहे हैं तो कुछ अफसरों के घरों पर काम कर रहे हैं। ऐसे में बुधवार को होने जा रही प्रेसिडेंट इन काउंसिल (PIC) की बैठक में सफाईकर्मियों पर सख्त फैसला लिया जा सकता है। नपा अध्यक्ष गायत्री शर्मा तो स्पष्ट कह रही हैं कि कुछ सफाईकर्मियों के कारण ही शहर में गंदगी पसरी हुई है।

नगर पालिका में 356 अंशकालिक सफाईकर्मी हैं जबकि 106 सफाई कर्मी नियमित हैं। इनके अलावा 32 सफाई कर्मचारी ऐसे हैं जो विनियमित प्रक्रिया के तहत हैं। इसके बावजूद शहर के मुख्य बाजार और चौराहों पर गंदगी पसरी रहती है। नपा की संपत्ति मानस भवन के मुख्य द्वार के पास सड़ी.गली सब्जियां बिखरी रहने से लोगों का निकलना दूभर हो रहा है। यहां के दुकानदार कई बार शिकायत भी कर चुके हैं। 38 कर्मचारी ऐसे हैं जिनकी जानकारी तक नगर पालिका के दस्तावेज में उपलब्ध नहीं है। जब इनकी पड़ताल की गई तो नपा अध्यक्ष गायत्री शर्मा ने ऐसे लापरवाह सफाई कर्मचारियों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

मूल काम छोड दूसरे काम करे रहे हैं कर्मचारी, अधिकारी भी पीछे नहीं

नगर पालिका के 30 सफाई कर्मचारी कचरा वाहन चला रहे हैं। 6 कर्मचारी ट्रैक्टर.ट्रॉली और 3 सफाईकर्मी पानी वाला ट्रैक्टर चला रहे हैं। 4 सफाईकर्मी फायर ब्रिगेड पर लगे हुए हैं। 15 सफाई कर्मचारी मेट का काम कर रहे हैं जबकि एक सफाईकर्मी बिजली का काम देखता है। वर्कशॉप में भी एक सफाईकर्मी तैनात है। मतलबए यह सफाईकर्मी सफाई का मूल काम छोड़कर दूसरे काम कर रहे हैं। इनके अलावा ऑफिसर्स कॉलोनी और जजेस कॉलोनी की सफाई के लिए भी सफाईकर्मी नियुक्त हैं जो दूसरी जगह का काम नहीं करते। यह सिर्फ इक्का-दुक्का जगह काम कर घर चले जाते हैं।

अब ठेकेदार से सड़कों की सफाई कराने की तैयारी

शहर के कुछ हिस्सों की सफाई की जिम्मेदारी अब नगर पालिका ठेके पर देने की तैयारी कर रही है। 8 वार्ड का एक जोन बनाकर सफाई का ठेका दिया जाएगा। जिन हिस्सों में ठेकेदार सफाई करेंगे, वहां की सफाई नपा के सफाई कर्मियों को दिखाई जाएगी ताकि जिस हिस्सा नपा के पास रहेगा, वहां बेहतर सफाई कराई जा सके। इस ठेका व्यवस्था को लेकर भी बुधवार को पीआईसी की बैठक में अहम निर्णय लिया जा सकता है।

कुछ सफाईकर्मियों की वजह से ही शहर में गंदगी फैली हुई है

शहर के विभिन्न हिस्सों का मुआयना करने पर मैंने पाया कि हमारे शहर में गंदगी कुछ सफाईकर्मियों की वजह से है। इसलिए लापरवाह सफाई कर्मचारियों को हमने नोटिस जारी किए हैं। इन पर पीआईसी की बैठक में निर्णय लेंगे। साथ ही कुछ वार्ड का जोन बनाकर हम प्राइवेट सफाईकर्मियों को भी नियुक्त कराने की योजना बना रहे हैं।
गायत्री शर्मा, अध्यक्ष, नगर पालिका, शिवपुरी