युवक की जान बचाने प्रेत-देवताओं को आना पड़ा, फिर भी हालत स्थिरः पढ़िए अंधविश्वास से भरी खबर- Shivpuri News

शिवपुरी। जिले के सिरसौद थाना क्षेत्र की सीमा में आने वाले गांव भदरौनी में बीती रात्रि में जागरण के समय युवक को सांप ने डस लिया। युवक के परिजन उसे अस्पताल न लाते हुए झाड़ फूंक करने वाले ओझा के पास ले गए,ओझा के इलाज से युवक को आराम नहीं मिल रहा था उसकी हालत बिगड़ती जा रही थी,लेकिन ओझा लगातार उन्हें आश्वासन दे रहा था कि वह ठीक हो जाएगा उसे अस्पताल ने ले जाए।

इसी उलझन में परिजनों ने प्रेत देवताओं की सवारी वुलाई और देवताओं ने युवक के स्वजनों को आदेश दिया कि वह युवक को तत्काल अस्पताल ले जाएं। देवता की बात मानकर परिजन उसे अस्पताल ले आए। अस्पताल में युवक को उचित उपचार मिलने से उसकी जान बच गई। युवक की हालत में फिलहाल स्थिर बनी हुई है।

जानकारी के अनुसार, सिरसौद थाना क्षेत्र के ग्राम भदरौनी का रहने वाला 22 वर्षीय युवक मनीष पुत्र राजू पाल शनि . रविवार की रात गणेश पंडाल में आयोजित रात्रि जागरण में गया था। वहां से वह सुबह 4 बजे लौट कर आया और अपनी मां कोसा वाई से कहा कि उसके गले में कुछ कसावट सी हो रही है। इस पर मां ने उसके पैर आदि चैक किए तो उसके पैर में सर्पदंश के निशान दिखाई दिए।

मनीष के परिजन उसे इलाज के लिए झिरी में किसी ओझा के यहां ले गए। उक्त ओझा ने मनीष की झाड़फूंक कर दी और कहा कि वह मनीष को दूल्हादेव के दर्शन करवा लाएं। मनीष के स्वजन उसे दूल्हा देव पर ले गए वहां भी ओझा ने उसकी झाड़फूंक कर दी और घर ले जाने की सलाह दी। दोनों ही ओझाओं ने स्पष्ट रूप से कहा कि वह मनीष को किसी भी हालत में अस्पताल न ले जाएं।

मनीष के परिवार वालों ने ओझाओं की बात मान ली। दूल्हा देव से लौटते समय रास्ते में ही मनीष की हालत और बिगड़ती चली गई लेकिन उसके परिजन उसे अस्पताल नहीं ले गए। अंततः उन्होंने अपने घर पहुंच कर देवता की सवारी बुलवाई। देवता ने स्वजनों से कहा कि मनीष के दिमाग की नस में जहर चढ़ता जा रहा है, इसे अस्पताल ले जाओ।

मनीष के परिजन देवता की सलाह मानकर उसे जिला अस्पताल ले आए। अस्पताल में मनीष को उचित उपचार दिया गया और उसकी हालत में सुधार आने लग गया। मनीष की मां का कहना है कि देवता की बात मानकर बेटे को अस्पताल ले आए तो उसकी जान बच गई।