जिले के 7 निकायों में 71.36% मतदान, सबसे अधिक पोहरी 86.87%,फिसड्डी रहा शहर- Shivpuri News

शिवपुरी। नगरीय निकाय चुनाव के दूसरे और अंतिम चरण में आज शिवपुरी नगर पालिका सहित 6 नगर पंचायतों मगरौनी, पोहरी, बैराड़, कोलारस, पिछोर और करैरा में मतदान हो रहा है। आश्चर्यजनक रूप से इस बार शिवपुरी नगर पालिका क्षेत्र के मतदाताओं में मतदान के प्रति उत्साह नही दिखा जिले में सबसे कम मतदान शिवपुरी शहर के मतदाताओं ने किया।

जिले के 7 निकायों के मतदान के लिए 281 मतदान केन्द्र बनाए गए थे। जिले में 71.36 प्रतिशत मतदान हुआ। 168682 लोगो ने अपने मत का प्रयोग किया। इस मतदान में 89531 पुरुष मतदाता और 79138 महिला मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया हैं।

करैरा में 29 मतदान केंद्र बनाए गए करैरा में 72.60 प्रतिशत मतदान संपन्न हुआ है। वह मगरौनी में 83.83 प्रतिशत मतदान हुआ हैं। आज 7 निकायों के मतदान में पोहरी में पहली वार अपनी नगर सरकार बना रहे पोहरी निकाय मे मतदाताओं में जोश था और उन्होंने जिले मे सबसे अधिक मतदान 86.87 प्रतिशत मतदान किया।

पोहरी की नगर सरकार बनाने के लिए 12746 लोगो ने अपने मत का प्रयोग किया है। वही बैराड़ में 80.64 प्रतिशत मतदान कोलारस में 76.69 प्रतिशत मतदान हुआ और पिछोर में 80.56 प्रतिशत प्रतिशत मतदान हुआ है। वही शहर के नगरीय निकाय चुनावों के 39 वार्डों में 66.33 प्रतिशत मतदान हुआ हैं जो जिले में सबसे कम आंकड़ा है।

वार्ड 20 में BLO को धमकाने पर कलेक्टर SP मौके पर पहुंचे

वार्ड क्रमांक 20 में स्थिति तनावपूर्ण रही। हालांकि पुलिस सतर्कता के कारण कोई बड़ी घटना घटित नहीं हुई। दोपहर 1 बजे भाजपा की बागी प्रत्याशी के पति ने बीएलओ को धमकाया और उन पर आरोप लगाया कि उन्होंने पर्चियों का वितरण नहीं किया है। बीएलओ से पत्तियां भी छिना ली गईं। बीएलओ ने सफाई दी कि उन्होंने पर्चियों का वितरण किया है।

लेकिन कुछ लोग घर पर नहीं मिले। इस कारण उनकी पर्चियों का वितरण नहीं हो सका। परंतु मतदान केन्द्र पर पर्ची बनाने का काम चल रहा है। पहचान पत्र दिखाकर यहां से पर्ची बनवाई जा सकती है। लेकिन बताया जाता है कि इसके बाद भी जब बीएलओ को धमकाना जारी रहा तो उन्होंने कलेक्टर और एसपी को बुला लिया।

एसपी राजेश सिंह चंदेल ने प्रत्याशी पति को हडकाया और कहा कि बीएलओ को धमकाने पर वह अंदर जा सकते हैं। उन्होंने बीएलओ से छीनी गई पर्ची भी बीएलओ को दिलवाईं। इसके बाद मामला शांत हुआ। लेकिन इस वार्ड में स्थिति लगातार तनावपूर्ण बनी रही।