PHE की लापरवाही: हैंडपंप सुधारते समय लगा बिजली का झटका, एक मजदूर की मौत 3 घायल- narwar News

नरवर। खबर जिले के नरवर विकासखंड से आ रही है कि एक ग्राम पंचायत में हैंडपंप सुधारते समय एक मजदूर की मौत और 3 अन्य मजदूरों के घायल होने की खबर आ रही हैं। बताया जा रहा है कि विभाग के पास हैंडपंप सुधारने के टेक्नीशियन होते हुए भी अनट्रेंड मजदूर से काम कराया जा रहा था,मजदूरों के अनट्रेंड होने के कारण ही यह हादसा हुआ है।

जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत सिमरिया में पीएचई का सरकारी हैंडपंप खराब हो गया था। इस हैंडपंप को सुधारने की जिम्मेदारी हैंडपंप मैकेनिक सादिक खान को सुधारने जाना था। सादिक ने अपनी ड्यूटी पर जाने की जगह हैंडपंप सुधारने के लिए प्राइवेट मजदूर विजय कुशवाह, भूरा कुशवाह सहित दो अन्य मजदूरों को भेज दिय।

जब यह मजदूर हैंडपंप सुधारने के लिए उसमें डाले पाइपों को निकाल रहे थे, तभी पाइप ऊपर से गुजरी 11 केवी की विद्युत लाइन से टकरा गया। पाइप विद्युत लाइन से टकराते ही सभी मजदूरों को करंट लग गया। हादसे में विजय कुशवाह की तो मौके पर ही मौत हो गई जबकि भूरा कुशवाह सहित अन्य मजदूर गंभीर रूप से झुलस गए। सभी मजदूरों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया।

विचारणीय पहलू यह है कि सरकारी काम के लिए प्राइवेट मजदूरों को आखिर किसने और किसकी अनुमति से भिजवाया था। नियमानुसार हैंडपंप सुधारने के लिए मैकेनिक सादिक खान को जाना चाहिए था, लेकिन उसने खुद न जाते हुए प्राइवेट अनट्रेंड मजदूरों को भिजवाया जो इस मौत का कारण बना।

बताया जा रहा है कि जो मजदूर घायल हैं उनमें से भूरा की हालत भी बेहद नाजुक बनी हुई है। पीएचई के विश्वसनीय सूत्र बताते हैं कि इंजीनियर आरएन श्रीवास्तव ज्यादातर अपने मुख्यालय की जगह दतिया स्थित अपने गृह निवास से ही सरकारी कार्य करते हैं। इसी का परिणाम है कि कर्मचारी भी लापरवाही करते हुए पूरा काम प्रायवेट मजदूरों से करवा रहे हैं। यही लापरवाही ने आज एक मजदूर की मौत का कारण भी बन गई।

इनका कहना है
हमारे यहां मैकेनिक उपलब्ध हैं, लेकिन हमारे यहां लेवर कम होने के कारण हमने काम आउटसोर्सिंग एजेंसियों को भी दे दिए हैं। जिस मजदूर की मौत हुई है और जो झुलसे हैं वह आउट सोर्स एजेंसी के कर्मचारी थे। घटना दुखद है, फिर भी जांच करवाएंगे कि क्या लापरवाही रही।
एलपी सिंह,ईई, पीएचई