Shivpuri News- कलेक्टर आधा घंटा इंतजार करते रहे, CMO नहीं आए

शिवपुरी। अपना फोन नही उठाने के लिए मशहूर हो चुके नगर पालिका सीएमओ को आज कलेक्टर शिवपुरी का ही इंतजार करवा लिया। आज कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह नगर पालिका पहुंचे तो वहां पर ना ही डूडा के अधिकारी थे और न ही सीएमओ शैलेश अवस्थी, कलेक्टर आधा घंटे तक इंतजार करते रहे लेकिन सीएमओ नगर पालिका नही आए। जब कलेक्टर के आने की खबर सुन कर भी सीएमओ नगर पालिका अपने ऑफिस नही आए तो आम पब्लिक की CMO कैसी सुनवाई करते होंगें।

मामला था डीजल का: टैंकर बंद और कचरा गाड़ी भी बंद

भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी नगर पालिका की आर्थिक हालत अब बद से बद्तर होते जा रहे हैं। स्थिति इतनी बद्तर है कि नगर पालिका डीजल आपूर्ति का भुगतान नहीं कर पा रही है। जिस कारण पुलिस वेलफेयर संचालित पेट्रोल पंप ने नगर पालिका ने डीजल की सप्लाई रोक दी। जिससे कचरा वाहन नहीं चल पा रहे और शहर में गंदगी बढ़ती जा रही है और सफाई व्यवस्था ठप्प हो रही है।

वहीं पानी के टैंकर भी प्रभावित इलाकों में नहीं जा पा रहे। जिससे पेयजल समस्या गहरा रही है। लेकिन नगर पालिका सीएमओ बेखबर है। इस समस्या को देखते हुए आज सुबह कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह नपा कार्यालय पहुंचे। जहां उन्होंने वाहन चालकों और अन्य कर्मचारियों से चर्चा की। खास बात यह रही कि इस दौरान न तो डूडा अधिकारी महावीर जैन वहां पहुंचे और न ही सीएमओ शैलेश अवस्थी।

इस दौरान कलेक्टर नपा कार्यालय में करीब आधा घंटा तक रहे और वह अधिकारियों के आने का इंतजार करते रहे। बाद में कलेक्टर नपा कर्मचारियों को जल्द ही डीजल आपूर्ति होने की बात कहकर वहां से चले गए। लेकिन दोपहर तक पेट्रोल पंप का भुगतान नहीं हो सका और न ही पेट्रोल पंप से डीजल की सप्लाई की गई।

20 लाख का भुगतान शेष हैं नगर पालिका पर डीजल का

पुलिस वेलफेयर से संचालित पेट्रोल पम्प से नपा ने डीजल लेती है। जिसका लगभग 20 लाख रुपए नपा ने भुगतान नहीं किया है। ऐसी स्थिति में पेट्रोल पंप पर डीजल और पेट्रोल की आपूर्ति नहीं हो पाई। जिसे लेकर पुलिस विभाग ने नपा सीएमओ से भुगतान करने के लिए कहा लेकिन कई दिन बीत जाने के बाद भी भुगतान नहीं हुआ तो पिछले तीन दिन पहले पेट्रोल पम्प से नगर पालिका को डीजल की सप्लाई बंद कर दी गई।

इसके बाद से ही शहर में चलने वाले कचरा वाहन व अन्य वाहन बाधित हो गए। कचरा वाहन न चलने के कारण जगह-जगह गंदगी के ढेर लग गए। जिससे आम लोग काफी परेशान हो रहे हैं। यह मामला मंगलवार को कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह तक पहुंचा। जिसे लेकर कलेक्टर ने वास्तविक स्थिति जानने के लिए आज सुबह नपा कार्यालय का रुख किया। जहां उन्हें न तो सीएमओ मिले और न ही डूडा अधिकारी। इस कारण कलेक्टर वहां मौजूद वाहन चालकों और कुछ अन्य कर्मचारियों से चर्चा करने के बाद वहां से चले गए।

थीम रोड पर लगाए गए पौधों को नहीं मिला तीन दिन से पानी

पेट्रोल पंप का भुगतान न होने पर डीजल आपूर्ति रोके जाने से नगर पालिका द्वारा चलाए जाने वाले टैंकर पिछले तीन दिन से बंद हैं। साथ ही थीम रोड के डिवाइडर पर जो पौधा रोपण किया गया है उन्हें पिछले तीन दिनों से पानी नहीं मिला है। जिससे वहां लगे पौधे मुरझाने लगे हैं।

इनका कहना है-
हमारे डीजल का 20 लाख से अधिक का भुगतान अभी पेंडिंग है हम भी टैंकर नहीं मंगवा पा रहे है लेकिन फिर भी इमरजेंसी कार्य करने हेतु हम डीजल दे रहे हैं। कई बार चेताया लेकिन हर बार नगरपालिका का यही रवैया रहता है। आज भुगतान करने का कहा गया है। अगर आज भी भुगतान नहीं होता है तो हम नगर पालिका को डीजल नहीं दे सकेंगे। क्योंकि हमारे पास स्टॉक ही नहीं बचा है और डीजल कम्पनी अपना भुगतान मांग रही है।
भानुप्रताप सिंह सूबेदार पुलिस वेलफेयर पेट्रोल पंप

हमारे पास डीजल की एक बूंद तक नहीं, सभी ट्रेक्टर नगरपालिका में खड़े है क्या कर सकते हैं,विवश है।
रोहित कुमार लोट टैंकर प्रभारी बस स्टैंड