हनुमान जयंती: कार्य सिद्धि के लिए प्रसिद्ध हैं दक्षिणामुखी प्रतिमा, भक्तों का सैलाब उमड़ा टेकरी सरकार पर - Shivpuri News

पवन पाठक@ पिछोर। शिवपुरी जिले की पिछोर कस्बे में स्थित हनुमान जी का मंदिर जिसे टेकरी सरकार के नाम से जाना जाता हैं। यह मंदिर पिछोर नहीं कई जिलों में निवास करने वाले लोगो की आस्था का प्रतीक है। इस मंदिर में विराजित संकट मोचन की प्रतिमा सर्व कार्य सिद्धि और सकल मनोरथ पूर्ण करने के लिए भी पहचानी जाती है,यहा आशा है निराशा नहीं हैं भक्तों के सर्व कार्य सिद्ध होते हैं।

पिछोर नगर में मुंडा पहाड़ी पर स्थित सैकड़ों वर्ष पुराना टेकरी सरकार हनुमान मंदिर पिछोर समेत आसपास के हनुमान भक्तों के लिए विशेष श्रद्धा का केंद्र है यहां हनुमान जी की विशाल मूर्ति एक बड़ी चट्टान पर प्राकृतिक रूप से उभरी हुई है यहां हनुमान जी के दाई ओर सिद्धिविनायक श्री गणेश जी विराजमान है इसके अलावा हनुमान जी के दक्षिण मुखी होने से भक्तों के काज सिद्ध करते हुए सकल मनोरथ पूर्ण कर शत्रुओं का नाश करने वाले सिद्ध शक्ति पीठ के रूप में पूजा जाते हैं।

श्रृंगारकर्ताओ से मिली जानकारी के अनुसार महाबली हनुमान जी के प्राकृतिक मुकुट में त्रिदेव ब्रह्मा विष्णु महेश विराजमान है और हनुमान जी का श्रृंगार हमेशा रात में ही किया जाता है। पूर्व में यहां पर पुरानी कई सीढ़ियों के साथ छोटा सा पुराना मंदिर था जिसके कई दरवाजे थे जहां आज एक विशाल भव्य मंदिर संपन्नता के साथ खड़ा हुआ है।

राम नवमी के दिन से शुरू हो गया था उत्सव का श्रीगणेश

चार दशकों से सात दिवसीय हनुमान जन्मोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता रहा है हर वर्ष रामनवमी रामजन्म से शुरू होने वाला यह महोत्सव हनुमान जयंती हनुमान जन्म के दिन तक बड़े हर्षोल्लास से चलता है हालांकि पिछले 2 साल में कोरोना के चलते कार्यक्रम स्थगित होता आ रहा है अब कोरोना का असर खत्म होते ही इसी परम्परा के निर्वाहन के क्रम मैं रामकथा का श्रीगणेश रामनवमी के दिन से ही शुरू हो गया था। जिसका समापन्न आज हनुमान जंयती के दिन होता है।

मंगल आरती के साथ शुरू हुआ हनुमान जन्मोउत्सव

आज मंगल आरती के साथ श्रीगणेश हुआ,बाल भोग और हनुमान आवाहन यज्ञ से प्रारंभ होकर दिन भर भक्तों द्वारा चोला चढाने का सिलसिला शुरू हुआ,इसके बाद कथा समापन के बाद हनुमान जी के महा श्रृंगार मैं भव्य आरती का आयोजन हुआ। इसके बाद बडी मात्रा में आतिशबाजी चलाई जाएगी इस अवसर पर टेकरी सरकार हनुमान जी के अद्भुत श्रंगार की एक झलक पाने के लिए सेकड़ो की संख्या में लोगों का सैलाब देखते ही बना।

अब उत्सव के अंतिम चरण में रात 8 से राजस्थान के कलाकारों द्वारा भजन संध्या कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएगा वही विभिन्न प्रकार के प्रसाद का वितरण भी किया जाएगा इस कार्यक्रम की तैयारी मंदिर की रंगाई पुताई के साथ 1 महीने पहले से आरंभ कर दी गई है कुल मिलाकर रामनवमी से हनुमान जयंती तक यह सिद्ध स्थल भक्तों के लिए विशेष आकर्षण और भक्ति का केंद्र रहेगा।