फर्जी पंजीयन के आधार पर 150 क्विंटल गेंहू खपाने की रची साजिश, नायब तहसीलदार ने पकड़ा - Shivpuri News

भौंती।
गेहूं पंजीयन में लगातार धांधली के प्रकरण सामने आते जा रहे हैं। किसानों के नाम से दलालों द्धारा पंजीयन के लिए नए-नए तरीके खोजे जा रहे हैं किंतु राजस्व अधिकारियों की सतर्कता के चलते इन प्रकरणों को उजागर कर पंजीयन निरस्ती सहित दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। कलेक्टर के निर्देश पर बड़े खातों के पंजीयन की मौके पर जांच की जा रही है।

इसी औचक जांच में पाया गया कि आनंद पुत्र प्रभूदयाल लोधी ने साढ़े तीन हेक्टेयर का पंजीयन फर्जी कराया और उस आधार पर 150 क्विंटल गेहूं सरकारी खरीद में खपाने की साजिश बना रहा था। नायब तहसीलदार ज्योति लाक्षाकार ने ग्राम धौर्रा में गेंहू के पंजीयनों की जब जांच की गई तब यह फर्जीबाड़ा सामने आया। जांच में सर्वे नम्बर 962, 963 ,983/12,983/12 कुल रकबा 3.57 हेक्टर का पंजीयन आनन्द पुत्र प्रभूदयाल जाति लोधी के नाम से पाया गया ।

जबकि उक्त सर्वे नम्बरों पर खसरा खतौनी में खाता धारक अलग थे। नायब तहसीलदार ने पटवारी से उक्त सर्वे नम्बरों की रिपोर्ट ली तो खुलासा हुआ। पटवारी रिपोर्ट में बताया गया कि राजस्व अभिलेख में सर्वे नम्बर 983/ 12 पर रामेश्वर पुत्र पारीक्षत जाटव ,सर्वे नम्बर 983 /13 पर राजाराम पुत्र पारीक्षत ,सर्वे नम्बर 962 पर रामदयाल और सर्वे नम्बर 963 पर तिजुआ बगैरह खाताधारक पाए गए।

इससे स्पष्ट हुआ कि पंजीयन फर्जी कराया गया है। इस बारे में पंजीयन कराने बाले किसान आनन्द पुत्र प्रभूदयाल लोधी ने नायब तहसीलदार को बताया कि मैने उक्त पंजीयन कृषकों की सहमति के आधार पर करवाया है। किंतु नायब तहसीलदार ने उक्त पंजीयन फर्जी व अवैध मानते हुए धांधली में लिप्त सेवा सहकारी संस्था खोड़ सहित पंजीयन ऑपरेटर व पंजीयन कर्ता के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए अनुविभागीय अधिकारी को रिपोर्ट भेजी है।