बडी खबर: पटवारी जगदीश अहीरवार को लोकायुक्त टीम ने 5 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकडा- Badarwas News

बदरवास। खबर जिले के बदरवास से आ रही है जहां आज बदरवास कस्बे में लोकायुक्त पुलिस ने फौती नामांतरण को अमल लाने के नाम पर किसान से 5 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए पटवारी जगदीश अहीरवार को रंगे हाथों पकड़ा है। पटवारी ने 8 हजार रूपए की रिश्वत की मांग की थी। जिसकी पहली किश्त 3 हजार रूपए 28 जनवरी को पटवारी ने ले ली थी और सोमवार को शेष 5 हजार रूपए की राशि देना तय हुआ था।

पटवारी ने रिश्वत की राशि बदरवास में रहने वाले अपने साथी पटवारी सुभाष मालवीय के घर पहुंचकर किसान से ली। उस समय पटवारी सुभाष मालवीय और एक किसान बहादुर सिंह जाटव भी वहां उपस्थित था। रिश्वत की राशि आरोपी पटवारी ने बहादुर सिंह जाटव के हाथ में दिलवाई थी। इसके बाद वह राशि पटवारी के पास पहुंची। तभी लोकायुक्त पुलिस ने उसे धरदबोचा।

लोकायुक्त टीआई ब्रजमोहन नरवरिया ने जानकारी देते हुए बताया कि 28 जनवरी 2022 को रन्नौद के लगदा गांव के निवासी जगभान सिंह लोधी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसके पिता की मृत्यु के बाद तहसील में नामांतरण होने के बाद भी कंप्यूटर में उसका नाम अमल में नहीं लाया गया है। इसे लेकर उसने पटवारी जगदीश अहीरवार से सम्पर्क किया तो उसने फौती नामांतरण को अमल मेें लाने के लिए 8 हजार रूपए की रिश्वत मांगी।

इसके बाद फरियादी जगभान सिंह लोधी को 1 फरवरी 2022 को रिकॉर्डर देकर पटवारी के पास भेजा। जहां पटवारी ने रिश्वत के रूप में 3 हजार रूपए लिए और शेष 5 हजार रूपए की राशि 7 फरवरी को देना तय हुआ। रिकॉडिंग मिलने के बाद पटवारी जगदीश अहीरवार पर धारा 7, 13(1), डी, 13(2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया और तय समय पर पटवारी जगदीश अहीरवार के पास किसान को भेजा।

उस समय पटवारी बदरवास में रहने वाले अपने साथी पटवारी सुभाष मालवीय के यहां मौजूद था और वहां पर ही पटवारी ने रिश्वत के 5 हजार रूपए वहां मौजूद किसान बहादुर सिंह जाटव को देने के लिए कहा। बहादुर सिंह ने वह 5 हजार रूपए लेकर पटवारी को दिए। तभी इशारा पाकर टीम वहां पहुंच गई और मौके से पटवारी को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार कर लिया। उसके हाथ केमिकल से धुलाए गए तो केमिकल गुलाबी हो गया।