टाइगर प्रोजेक्ट पर नेताओं की दहाड़: सिंधिया और सांसद केपी आमने सामने, 2 ट्वीट की गूंज- Shivpuri City News

शिवपुरी। शिवपुरी के नेशनल पार्क की धरातल पर अभी टाइगर आमने सामने नही उतरे हो,प्रोजेक्ट धरातल पर आने की कवायद जोर शोर से चल रही हैं। पार्क में अभी टाईगर की दहाड नही गुंजी है लेकिन सोशल पर नेताओं  की इस प्रोजेक्ट को लेकर दहाड़ अवश्य गूंजने लगी हैं।

लेकिन Twitter 2 ट्वीट अवश्य गूंज रहेे हैं। एक ट्वीट केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का हैं दूसरा ट्वीट शिवपुरी गुना सांसद केपी यादव का है। दोनो ने ही दावा किया हैं कि शिवपुरी का टाइगर प्रोजेक्ट उनका प्रयास हैं। अब इस ट्वीट को लेकर दोनों ही आमने सामने आ गए हैं

टाइगर प्रोजेकट को लेकर केन्द्र ने दी सहमति

माधव नेशनल पार्क में जल्द ही टाइगर की दहाड़ सुनने को मिलेगी। माधव राष्ट्रीय उद्यान में टाइगर सफारी को लेकर केंद्र सरकार की सहमति प्राप्त हो गई है। कुछ दिनों पहले दिल्ली में हुई केंद्र स्तरीय बैठक में माधव नेशनल पार्क की ओर से दिए प्रस्तुतीकरण को देखने के बाद केंद्र ने माधव राष्ट्रीय वन उद्यान को टाइगर हेतु अनुकूल व उपयुक्त माना है। अब यहां से राष्ट्रीय वन उद्यान का स्टाफ प्रशिक्षण प्राप्त करने पन्ना जाएगा। टाइगर आने के साथ शहर के पर्यटन की दिशा में बड़ा बदलाव होगा। एक बार फिर पर्यटक शिवपुरी की ओर रुख करेंगे और यहां रोजगार बढ़ेगा।

महाराजा सिंधिया ने यह किया ट्वीट

टाइगर सफारी की स्वीकृति मिलने के बाद दोनों नेताओं ने अपने-अपने दावे किए हैं। सिंधिया ने ट्वीट कर कहा कि " मेरे अनुरोध पर केन्द्रीय श्रम एवं पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव जी द्वारा शिवपुरी माधव नेशनल पार्क को टाइगर सफारी की सौगात दिए जाने पर शिवपुरी जिले के नागरिकों की ओर से आभार। इससे न सिर्फ युवाओं को रोजगार मिलेगा बल्कि भविष्य में माधव नेशनल पार्क में पर्यटन में भी वृद्धि होगी।"टा

सांसद महोदय ने कहा कि मेरा प्रयास

शिवपुरी-गुना सांसद केपी यादव ने भी इस स्वीकृति पर अपना दावा किया है। उनके कार्यालय से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार उनके अनुरोध पर केंद्र ने यह स्वीकृति दी है। विज्ञप्ति के अनुसार सांसद डॉ. केपी यादव ने निर्वाचित होने के बाद से ही क्षेत्रवासियों की मांग व पर्यटन नगरी के रूप में सुविख्यात शिवपुरी में पर्यटन के क्षेत्र में विकास को बढ़ावा देने के उद्देश्य से माधव राष्ट्रीय वन उद्यान के विकास के लिए राज्य से लेकर केंद्र स्तर तक तथा संसद भवन में भी लोकसभा सत्र के दौरान अपनी मांग रखी।

सांसद ने केंद्रीय मंत्रियों सहित टाइगर प्रोजेक्ट प्रभारी एसपी यादव सहित अन्य अधिकारियों से समय-समय पर रुचि लेकर चर्चा की व पूरे मामले में गंभीरता लेते हुए अपनी उपस्थिति को बनाए रखा। इसी के बाद टाइगर सफारी शुरू होने का रास्ता साफ हो पाया।

दोनों ही नेताओं ने केन्द्रीय श्रम एवं पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव के साथ अपनी फोटो अपने सोशल अकाउंट पर अपलोड भी किए हैं। कुल मिलाकर अभी प्रोजेक्ट को केंद्र की मजूंरी मिली है। पार्क प्रबंधन पिछले 4 माह से इस प्रोजेक्ट को लेकर तैयारी कर रहा हैं। प्रोजेक्ट के लेकर नेशनल पार्क सीमा का दायरा भी बढ़ाया गया हैं। सब कुछ सही चल रहा हैं,लेकिन अभी नेशनल पार्क की धरा पर टाइगर के कदम नही पड़े हैं। इस प्रोजेक्ट को जब ही पूर्ण माना जायेगा जब टाइगर शिवपुरी के नेशनल में आ जाएंगे,लेकिन अब इस प्रोजेक्ट को लेकर दोनों नेता की सोशल पर दहाड जरूर जन चर्चा का विषय बन गई हैं।