1 दिन के पुन: सरपंच बनने के बाद हटाने लेकर सरपंचों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन- Shivpuri News

शिवपुरी।
आज प्रदेशभर के 23 हजार 400 सरपंचों को पंचायत चुनावों की आचार संहिता समाप्त होने के बाद 4 जनवरी को एक आदेश जारी कर दोबारा पंचायत का प्रधान बना दिया था। एक दिन बाद 5 जनवरी को दूसरा आदेश जारी कर उनके सारे अधिकार और पावर छीन लिए। सरकार के इस फैसले से ये लोग आक्रोशित हैं। वे इसे अपना अपमान मान रहे हैं। इसे लेकर आज पूर्व सरपंच एकत्रित होकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

इसी की चलते आज जिलेभर के सैंकड़ों सरपंच कलेक्ट्रेट में इकट्‌ठा हुए। उन्होंने अपने अधिकार वापस पाने के लिए कलेक्टर को सीएम के नाम का ज्ञापन साैंपा। सरपंचों ने अधिकार वापस नहीं किए जाने पर अगली बार शिवराज सिंह चौहान को सीएम बनवाने में उनकी मदद नहीं करने की बात कही।

सरपंचों ने लगाया सरकार पर आरोप

सरपंचों ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए बताया कि सरकार की चुनाव कराने की मानसिकता नहीं है। यही कारण है कि उसने चुनाव टाल दिए। इसके अलावा सरपंचों को उसका पावर भी नहीं देना चाहती। इसलिए अब यदि सरकार ने पावर वापस नहीं दिलाए तो वे इसके खिलाफ उग्र आंदोलन करेंगे।