टोल बचाने के फेर में राई रोड से गुजर रहे है भारी वाहन, उखडी सडक, बडे हादसे के इंतजार में प्रशासन- kolaras News

शिवपुरी। एक तरफ ग्रामीण क्षेत्रों में सुगम यातायात के लिए बनी प्रधानमंत्री सड़कों का उपयोग भारी मालवाहको के करने से सड़क की बखिया उधड़ने लगी है। नगर के एबी रोड से राई, कार्या तक की पीएम सड़क में रोजाना भारी मालवाहक और ओवरलोड वाहन बेधड़क गुजर रहे हैं जिसके कारण सड़क की क्षमता जवाब देने लगी है और जर्जर होती नजर आ रही है।

ग्रामीणों की माने तो शहरों से गांवों को जोड़ने वाली दो महत्वपूर्ण योजना सरकार के द्वारा चलाई जा रही है जिसमें पहली प्रधानमंत्री सड़क योजना व दूसरी मुख्यमंत्री सड़क योजना के तहत समूचे प्रदेश में हजारों किलोमीटर सड़कें बनाई गई है और बन रही है लेकिन अधिकारियों व ठेकेदारों के बीच मध्य भ्रष्टाचार के मजबूत गठबंधन के चलते इन सड़कों के निर्माण में भारी घोटाले किए जा रहे हैं

टैक्स बचाने का जरिया बनी राई रोड

जानकारी के अनुसार राजस्थान से माल भरकर आने वाले ओवरलोड बानी खराई बैरियर पर टैक्स बचाने के चलते बैरियर पर पदस्थ अधिकारियों की मिलीभगत से अनु विभाग के ग्राम कोटा नाका से कच्चा रास्ता तय करते हुए कार्य राई प्रधानमंत्री सड़क से होते हुए कोलारस के एबी रोड पर लगते हैं।

जहां से गुना बदरवास ईसागढ़ अशोकनगर करैरा झांसी शिवपुरी आदि शहरों में प्रवेश कर जाते हैं सड़क की बर्बादी का जिम्मेदार सड़क का निर्माण करने वाली एजेंसी संबंधित विभाग के लापरवाही अधिकारियों के साथ-साथ वह ओवरलोड वाहन भी है जिन्होंने इस मार्ग को बर्बाद कर दिया।

हादसों को न्योता दे रहे सड़क पर बने जानलेवा गड्ढे

नगर के एबी रोड से कार्या तक की प्रधानमंत्री सड़क को अभी कुछ ही वर्ष पहले प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत बनाया गया था। लेकिन निर्माण के कुछ ही वर्षों में यह समूची सड़क एवं इस मार्ग पर बनी पुलियाएं घटिया निर्माण के चलते ध्वस्त हो चुकी हैं। प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत निर्मित इस सड़क पर कार्या पहुंच मार्ग राई से कार्या के बीच दो पुलियां भी बनाई गई थीं।

लेकिन निर्माण कार्य में घटिया सामग्री का प्रयोग किए जाने के कारण यह दोनों पुलियाएं ध्वस्त हो गईं हैं, उक्त दोनों पुलियाओं का सड़क से वजूद खत्म होते ही इन स्थानों पर जानलेवा गड्ढे निर्मित हो गए हैं वहीं राहगीर अपनी जान जोखिम में डालकर इस सड़क से गुजरने के लिए बाध्य हो रहे हैं।

ग्रामीण बोले - जान जोखिम में डालकर तय कर रहे सफर

तकरीबन 50 गावों के लोग इस मार्ग से प्रतिदिन गुजरते हैं। प्रधानमंत्री सड़क के धाराशायी हो जाने से ग्रामीण परेशान हो रहे हैं। इस मार्ग से 10 से 15 स्कूली वाहन स्कूली बच्चों को लाना ले जाना करती हैं, लेकिन संबंधित विभाग के अधिकारी इस सामूहिक जनसमस्या का समाधान कराने के प्रति ध्यान नहीं दे रहे हैं।

लापरवाह अधिकारियों की करतूतों का खामियाजा ग्रामीणों को भोगना पड़ रहा है। चिंता की बात यह है कि इस जर्जर मार्ग से 50 गावों के बच्चे स्कूल तक कैसे पहुंचे यह जर्जर मार्ग उनके व राहगीरों के लिए बहुत बड़ी समस्या बनकर उभरी है। जब निर्माण कार्य भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाए और जब संबंधित विभाग के लापरवाह अधिकारी मूकदर्शक बन जाए तो ऐसी स्थिति में जनता का जनप्रतिनिधियों से आस लगाना स्वभाविक है लेकिन क्षेत्र के किसी जनप्रतिनिधि ने जनता की इस सामूहिक जनसमस्या का समाधान कराने का कोई प्रयास नहीं किया है।

इनका कहना है
यह मामला मेरी जानकारी में नहीं है। फिर भी आप कह रहे तो में इसे दिखबा लेता हूं। बैसे इस मामले में आरटीओ मैडम से बात करें ही बता पाएंगी कि क्या कर सकते है। अब रोड है तो वाहनों को तो हम नहीं रोक सकते।
आलोक भदौरिया,टीआई कोलारस