संविधान दिवस पर आम नागरिको के अधिकारो का हनन:खाली पडी अधिकारियो की कुर्सी,अपडाउन ने बिगाड़े हालात- Badarwas News



संजीव जाट, बदरवास। लोकतंत्र में आम आदमी की सुनवाई होती हैं और उसके वोट की ताकत से ही मप्र के सीएम की कुर्सी का चुनाव होता है। सरकार में बैठे सरकारी अफसर जनता के सेवक होते हैं ओर जनता को उनका हक मिलना संवैधानिक हक होता हैं। लेकिन अफसर अपने अफसरी के अधिकारो का गलत प्रयोग करते हैं जिससे आम जन के अधिकारो का हनन होता है।

हम बात करे हैं बदरवास विकासखण्ड के शासकीय कार्यालय की। इस विकास खण्ड में 25 विभागो के कार्यालय हैं। इनमे से 8 कार्यालय में सरकारी अफसर और कर्मचारियो के दर्शन हो जात हैं लेकिन शेष कार्यालयो में हालत बडे ही गंभीर हैं बडी जिम्मेदारी वाले विभागो के अधिकारी अपने पदस्थापना के स्थान पर नही रहते। जिन अधिकारी कर्मचारियो को फिल्ड में काम करना होता हैं उन पर एक ही बहाना है कि वह फिल्ड में है।

चाहे वे ऐसी ठंड में रजाई को आनंद ले रहे हो जनता उनके दफ्तरो के चक्कर लगा कर ताकतवर वोटर से मुसदीलाल बन जाती है। 26 नवबंर को सविधान दिवस थ ओर शासकीय सभी कार्यालयो पर शपथ दिलाई जाना था। ऐसे अधिकार दिवस में हमारे संवाददाता ने इन कार्यालयो की ग्राउंड रिर्पोटिंग की देखे क्या हालत मिले।

1 बजकर 10 मिनिट सीएससी बदरवास

बदरवास सीएससी पर बीएमओ के कक्ष में ताला लगा हुआ था एव अन्य स्टाफ भी क्षेत्र में होने की बात कही गई जिम्मेदार से बात करना चाहा तो फोन नही उठाया

1 बजकर 35 मिनिट कृषि उपज मंडी

मंडी सचिब की कुर्सी खाली थी जबकि बदरवास कृषि उपज मंडी के अंतर्गत 29 कर्मचारी हैं लेकिन मौके पर बैठे कर्मचारियों ने बताया कि कुछ लुकबासा मंडी में है एवं कुछ का पता नहीं है जबकि मंडी सचिव के बारे में बात की तो उन्होंने चुप्पी साध ली

क्या कहते है जिम्मेदार
में तो छुट्टी लेकर गया हूं और में कर्मचारियों का पता करता हु
विजय मीणा मंडी सचिब

12 बजकर 56 मिनिट
कृषि विस्तार कार्यलय
कार्यालय में देखा तो कृषि विस्तार अधिकारी की कुर्सी खाली थी मौके से नदारद थे कर्मचारियों से पूछा तो उन्होंने बताया कि फील्ड में गए हैं

डेढ़ दर्ज कार्यलय दर्ज पर मौके पर नही मिले
बदरवास विकासखंड मुख्यालय होने के कारण यहां आमजन की समस्याओं को सुविधाओं के लिए 25 शासकीय कार्यालय बना रखे हैं लेकिन वह रिकॉर्ड में देखने की अनुसार पता चलता है कि मौके पर मात्र 8 या 10 कार्यालय की मिलते हैं शेष कार्यालय कार्यों में संचालित हो रहे हैं यह कार्यालय इस प्रकार है

1 बजकर 25 मिनिट महिलाबाल विकास कार्यालय
कार्यलय में मोके पर दो बाबू एव एक ऑपरेटर मिला जबकि महिलाबाल बिकास अधिकारी के कक्ष में ताला लगा हुआ मिला और सात सुपरबाइजर है जो जिला मुख्यालय पर निबास करती है अपडाउन करती है अगर फोन लगाओ तो क्षेत्र में होने का बहाना बताकर बच जाती है जबकि इनके मोबाइलों की लोकेशन पता किया जाए तो हकीकत सामने आ जाएगी

क्या कहती है अधिकारी
में अभी घर पर हु मेरी तवियत खराब है और सुपरबाइजर का पता करती हु
फ्रांसिका कुजूर,महिला बाल विकास अधिकारी

2 बजकर 10 मिनिट जनपद कार्यालय
जनपद सीईओ एलएन पिप्पल जनपद कार्यलय में निर्वाचन के कार्य मे व्यस्त मिले चुकी

2 बजकर 30 मिनिट
पशु चिकित्सालय मौके पर कोई कर्मचारी नही मिला कार्यलय में ताले लगे हुए मिले
जब जिम्मेदारों से सम्पर्क करना चाहा तो मोबाइल रिसिब नही हुआ

2 बजकर 30 मिनिट
पशु चिकित्सालय मौके पर कोई कर्मचारी नही मिला कार्यलय में ताले लगे हुए मिले
जब जिम्मेदारों से सम्पर्क करना चाहा तो मोबाइल रिसिब नही हुआ

2 बजकर 37 मिनिट तहसील कार्यालय
तहसीलदार प्रदीप भार्गब अपने पटवारियों के साथ कार्यलय में किसी कार्य को लेकर व्यस्त मिले वाहरे खड़े लोगो की भी सुनबाई की जा रही थी

प्रतिदिन करते हैं उपडाउन
मुख्यालय पर निवास ना होना बनी बड़ी समस्या यूं तो देखा जाए तो बदरवास जनपद मुख्यालय पर 25 कार्यालय विधिवत आमजन की समस्याओं को दूर करने हेतु स्थापित किए गए हैं और उक्त सभी कार्यालय पर कर्मचारी एवं अधिकारी भी तैनात हैं लेकिन अधिकतर देखा जाए तो सभी जिला मुख्यालय पर निवास करते हैं डेली अप डाउन करते हैं अगर इतने में इनके कार्यालयों का आत्मिक वितरण किया जाए तो उनसे जब जानकारी चाहिए जाती है तो फिल्में होने का बहाना कर बच जाते हैं लेकिन मौके पर इनका कोई बात ना होना बड़ी समस्या है

क्या कहते अधिकारी
आस्मिक निरीक्षण करुगा ओर मोनिटरिंग करुगा की यह किस बिभाग में कितने कर्मचारी अधिकारी तैनात है और वह मुख्यालय पर निबास करते है या नही जाच करुगा ओर जो दोषी होगा उसके ऊपर कार्यवाही की जाएगी
ब्रजबिहारी श्रीवास्तव
एसडीएम कोलारस