कथावचक अनिल शुक्ला ठगी का शिकार, फोन पर भांजे तक को पहचान नहीं पाए - Shivpuri News

शिवपुरी। शहर के सिटी पैलेस में रहने वाले कथावचक अनिल शुक्ला के खाते से 25 हजार रूपए की राशि ठगो ने निकाल ली। ठगी करने वाले व्यक्ति करने वाले व्याक्ति ने कथावाचवक का भांजा बनकर बात की तथा 25 हजार निकालने से पहले 2 रूपए खाते में ट्रांसफर करके बैंक खाते से पूरी जानकरी ले ली थी।

ठग ने भांजा बनकर की बात

अनिल शुक्ला के बेटे आदित्य ने बताया कि पिताजी के पास एक युवक ने तीन बार फोन लगाकर खुद को बंटी बताया। चूकि बंटी नाम अनिल के भांजे का भी हैं, इसलिए वह यह समझे कि भांजे का भी हैं, युवक ने कहा कि मामाजी में आपके खाते में 25 हजार रूपए ट्रांसफर कर रहा हूं, और यह दो दिन बाद वापस कर देना, पहले आप मुझे इस फोन-पे पर 2 रूपए भेजो।

अनिल ने कहा कि मुझे तो फाने-पे करना नही आता मैं अपने बेटे से बात करवाता हूं। अनिल ने अपने बेटे आदित्य को फोन देकर बात करवाई तो उनके बेटे ने पूछा कि आप बंटी भैया ही बोल रहे हो,तो क्या मे वीड़ियो कॉल करू, तो ठग ने कहा कि तुम मुझ पर भरोसा क्यो नही कर रहे हो, मैं पैसे ट्रांसफर करवाकर वीडियोकॉल पर बात करेगें। इसके बात ठग ने दो रू अनिल को फोन-पे के माध्यम से भेज और जब वो 2 रूपए आ गए तो फिर उसने अनिल के बेटे से ही पूरी प्रक्रिया करवाकर खाते से 25 हजार रूपए निकाल लिए।

नीलाधर के नाम से है खाता

बंटी बनकर बात कर रहे इस ठग ने जिस एकाउंट में पैसा दिया व लिया,वे किसी नीलाधर कुर्मी के नाम से हैं। दो रूपए के फेर में 25 हजार रूपए गंवाने वाल पंडित जी ने कोतवाली एंव एसपी आफिस में अपने साथ हुई ठगी की लिखित शिकायत की हैं।