खाद माफियाओं पर कलेक्टर का डंडा, कई किसानों को लूट रहे कई दुकानदारों पर FIR, लुकवासा में माफिया नकली खाद बेच रहे है- Shivpuri News

शिवपुरी। जिले में लगातार डीएपी की किल्लत को लेकर चल रहे हंगामे के बीच आज प्रशासन ने माफियाओं पर नकेल कसते हुए पूरे जिले में इन माफियाओं की कई दुकानों को सील कर दिया है। यह कार्यवाही कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह के निर्देशन में पूरे जिले में हुई है। परंतु इसी बीच कोलारस के लुकवासा में माफिया किसानों को चूना लगाने में कोई कसर नहीं छोड रहे। हालात यह है कि यहां खुलेआम माफिया किसानों को डेढ गुनी रेट पर नकली खाद खफा रहे है।

पहली कार्यवाही जिले में उर्वरक की उपलब्धता एवं वितरण पर निगरानी के लिए शनिवार को एसडीएम शिवपुरी गणेश जायसवाल शहर में भ्रमण के लिए निकले। उन्होंने खाद दुकानों का निरीक्षण किया और दुकानदारों से जानकारी ली। साथ ही मौके पर उपस्थित किसानों से भी चर्चा की। जहां कहीं लापरवाही देखी वहाँ विक्रेताओं पर सख्त कार्यवाही के निर्देश भी दिये हैं।

शिवपुरी एसडीएम ने ए बी रोड स्थित दुकान का निरीक्षण किया और निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य में उर्वरक किसानों को बेचने के कारण श्री नाथजी इंटरप्राइजेज संस्था को तत्काल सील करने की कार्यवाही की। उन्होंने किसानों से चर्चा करते हुए उन्हें उर्वरक के सही मूल्य की जानकारी दी। साथ ही सभी संस्थाओं पर पोस्टर और रेट चस्पा करने के निर्देश दिए हैं। जिससे किसानों को जानकारी रहेगी और वह सही मूल्य पर खाद खरीद सकेंगे। एसडीएम ने विक्रेताओं को सख्त निर्देश दिए हैं। यदि किसानों से अधिक दाम लिए जाते हैं या खाद की कालाबाजारी की शिकायत मिलती है तो विक्रेता के विरुद्ध सख्त कार्यवाही होगी।

पोहरी SDM ने खाद दुकानों का किया निरीक्षण, अव्यवस्था पर की कार्यवाही

कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने सभी विकासखंडों में खाद की उपलब्धता एवं वितरण की निगरानी के निर्देश सभी एसडीएम को दिए हैं। उनके निर्देशानुसार पोहरी में भी एसडीएम द्वारा निरीक्षण किया गया।

लुकवासा में नकली खाद माफिया

जिले के लुकवासा में बीते लंबे से खाद माफिया सक्रिय है। यहां खुलेआम माफिया किसानों को चूना लगाते हुए नकली खाद थमा रहे है। यहां माफियाओं ने खाद के बडे बडे गोदाम तो बना रखे है। परंतु इस नकली खाद के लिए इन्होंने अलग अलग गोदामों में रखा जाता है। जहां से पूरे जिले में माफिया इस खाद को पूरे जिले में सप्लाई करते है।

एसडीएम अंकुर गुप्ता ने बताया कि भटनावर में स्थित सहकारी संस्था का निरीक्षण किया गया जिसमें वहां पीओएस मशीन खराब पायी गयी व उसके बिना ही वितरण किया जा रहा था और स्टॉक में 50 बोरे कम पाए गए। इसके साथ ही कोई रिकॉर्ड मेन्टेन नही किया जा रहा था व बिना परमिट के ही खाद दिया जाना पाया गया। एसडीएम गुप्ता ने तत्काल कार्यवाही करते हुए संस्था पर रखे 96 बोरे सील किये है। साथ ही निर्देश दिए हैं कि पीओएस मशीन के साथ ही खाद वितरण किया जाये।

एसडीएम पोहरी ने बताया कि बैराड़ नगर की प्राइवेट खाद दुकान श्रीराम खाद ट्रेडिंग कंपनी के गोदाम में 200 बोरी डीएपी खाद भरा हुआ मिला जिसको मौके पर राजस्व विभाग के पटवारी एवं आरआई तथा कृषि विभाग के क्षेत्रीय कृषि विकास अधिकारी की उपस्थिति में वितरित करवाया गया।

पिछोर में खाद विक्रेताओं के विरुद्ध दर्ज हुई FIR

कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह के निर्देशानुसार खाद की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध कार्यवाही की जा रही है। पिछोर विकासखंड में एसडीएम जे.पी.गुप्ता ने विक्रेताओं के विरुद्ध कार्यवाही की है। बामोरकला क्षेत्र में 3 विक्रेताओं के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई गई है।

एसडीएम जेपी.गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि उर्वरक की उपलब्धता एवं वितरण आदि पर निगरानी के लिए खाद की दुकानों का निरीक्षण किया गया और विक्रेताओं से जानकारी ली गई। बामोरकला में कार्यवाही के दौरान तीन ट्रैक्टर खाद ले जाते हुए मौके पर पकड़े गए। यह उर्वरक शिवपुरी से अशोकनगर जिले में ले जाया जा रहा था। जब किसानों से पूछताछ की गई और जानकारी ली गई तब विक्रेताओं द्वारा खाद की कालाबाजारी और अधिक मूल्य पर बेचने की जानकारी मिली। इसे गंभीरता से लेते हुए तत्काल संबंधित विक्रेताओं पर कार्यवाही की गई है।

पिछोर एसडीएम श्री गुप्ता ने बताया कि आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 और उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के तहत मैसर्स श्री किसान सेवा केंद्र प्रो सुनील गुप्ता, मैसर्स अनुराग ट्रेडर्स प्रो अनुराग गुप्ता, मैसर्स अलका एजेंसी प्रो अजय गुप्ता पर प्रकरण दर्ज किया गया है।