बड़ी खबर: कोलारस मंडी में व्यापारी से दिन दहाडे 5 लाख की लूट, बाईकर्स बदमाश बैंंग लूटकर भागे - kolaras News

कोलारस। खबर जिले के कोलारस कृषि उपज मंडी से आ रही है जहां आज दोपहर दिन दहाडे कोलारस कृषि उपज मंडी के गेट से दो बदमाश एक व्यापारी सफीअहमद खान से 5 लाख रूपए से भरा बैग लूटकर भाग गए। मोटरसायकिल पर सवार थे बदमाश और उन्होंने व्यापारी की मोटरसायकिल में टक्कर मारकर उसे गिरा दिया और बैग ले भागे। व्यापारी सफी अहमद खान ने बदमाशों का पीछा करने का प्रयास किया। लेकिन वह काफी तेज गति से मोटरसायकिल भगाते हुए भाग निकले।

लुटे गए व्यापारी सफी अहमद खान ने बताया कि वह कोलारस मंडी में पार्टनरशिप में मंडी का कारोबार करत हूं। हमारी फर्म का नाम पूरनचंद हरिओम है। आज जब मोटरसायकिल से मैं मंडी गेट से बाहर जा रहा था, उसी समय मोटरसायकिल पर सवार दो बदमाशों ने उसकी मोटरसायकिल में टक्कर मारी। जिससे वह गिर गए और इसका फायदा उठाते हुए बदमाश उसकी मोटरसायकिल पर रखा नोटों से भरा बैग लेकर भाग गए।

सफी अहमद ने बताया कि मैंने बदमाशों का पैदल पीछा किया। पीछे से कुछ व्यापारी मोटरसायकिल पर आ रहे थे उनसे कहा और उन्होंने भी मोटरसायकिल से पीछा किया। लेकिन बदमाशों की मोटरसायकिल की गति बहुत अधिक थी। व्यापारी ने बताया कि मैं बदमाशों को देख नहीं पाया। उसके हाथ में फे्रक्चर है। शायद गिरने से पैर में भी फ्रैक्चर हुआ हो। बारदात की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई और पुलिस व्यापारी को पूछताछ के लिए थाने ले गई है। समाचार लिखे जाने तक बदमाशों का कोई सुराग नहीं लग सका था।

काफी भीड़भाड़ के बीच हो गई बारदात

जिस समय कृषि उपज मंडी में लूट की बारदात हुई, उस समय मंडी में काफी भीड़ थी। बहुत सा माल बिकने के लिए ट्रेक्टर से आया हुआ था। मंडी में सैकड़ों ट्रेक्टर थे और व्यापारी भी वहीं मौजूद थे। लेकिन इसके बाद भी बारदात हो जाने से सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल अवश्य खड़े हो गए हैं। समाचार लिखे जाने तक मंडी में कारोबार बंद था और किसान अपनी फसल की बिक्री न होने से परेशान बने हुए थे।

मंडी के सीसीटीव्ही बंद

कोलारस कृषि उपज मंडी में हुई बारदात के बाद प्रशासन ने तत्काल मंडी में लगे सीसीटीव्ही खंगालने का प्रयास किया। तो पता चला कि मंडी में लगे सीसीटीव्ही खराब पडे हुए है। बताया जा रहा है कि मंडी के कर्मचारी पडौरा पर बैठकर गाडियों से बसूली करते है। इसके साथ ही यहां मंडी से निकलने बाले माल के टैैक्स के चलते यहां लगे सीसीटीव्ही बंद कर दिए गए है। अगर आज यह सीसीटीव्ही चालू होते तो शायद यह बारदात नहीं होती।