मन की शांति के लिए हिमाचल से कन्याकुमारी तक पैदल ही घर से निकल चुका हैं यह स्टूडेंट: दे रहा है संदेश- Shivpuri News

शिवपुरी। कहते हैं मन में जज्बा और कुछ करने का जुनून सिर पर सवार हो तो फिर दुनिया की हर मंजिल छोटी लगने लगती है ऐसा ही एक साहस दिखाया है हिमाचल प्रदेश के नवयुवक 23 वर्षीय हितेश सोनी ने, जो हिमाचल प्रदेश से पैदल चलकर कन्याकुमारी जाने का प्रण लेकर चला है और उसने यह प्रण 100 दिन में पूरा करने का भी मन में ठाना है।

हितेश पिछले 41 दिन से लगातार चलकर विगत दिवस शिवपुरी पहुंचा वहां पहुंचने पर जहां एक निजी होटल में उसके सोशल साइट से फ्रेंड बने सत्यम शर्मा ने उनके ठहरने की व्यवस्था कराई जहां पर सुबह से शाम तक मिलने वालों की भीड़ लगी रही। हितेश के चाहने वालों की दीवानगी इसी बात से देखी जा सकती है कि शिवपुरी से 50 किलोमीटर दूर करैरा के पास से पैदल चलकर आयुष नाम का युवक जो हितेश को अपना आदर्श मानता है

उससे मिलने पहुंचा और उसके साथ पदयात्रा करने हेतु आग्रह किया लेकिन हितेश ने इस हेतु मना कर दिया आयुष शिवपुरी में प्रवेश करते ही हितेश के साथ पदयात्रा करते हुए अस्पताल चौराहे पर स्थित होटल पर पहुंचा जहां पर सोशल साइट के माध्यम से बहुत कम समय में अपनी फॉलोअर्स लिस्ट बढ़ाने वाले हितेश के चाहने वालों की लाइन लगी रही।

हितेश को उपहार स्वरूप कुछ ना कुछ अपने साथ लेकर आ रहे थे और सभी के आग्रह पर हितेश ने शिवपुरी में दो दिन बिताने का अपना मन भी बनाया है। इस दौरान वह कुछ बेहतरीन आर्किटेक्चर वाले स्मारक या प्राकृतिक स्थलो को देखना चाहता है।

हितेश अभी बीकॉम का छात्र है और पूरे परिवार का भार उस पर है

हितेश ने अपने बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वह हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर का रहने वाला है पिता का नाम राजीव सोनी एवं माता का नाम अनीता सोनी बताया, वह दो भाई बहन है हितेश अभी बीकॉम सेकंड ईयर मैं अध्ययनरत है, उन्होंने बताया कि मैं 23 वर्ष की उम्र में अपने पूरे परिवार का भार उठा रहा हूं और स्वयं के मन को शांति प्रदान करने के लिए मैं यह लंबा सफर कर रहा हूं।

इसके अलावा मेरा एक और मोटिव है इन्वायरमेंट को लेकर हितेश का कहना है कि पैदल सफर करते हुए उसने सड़कों पर जो गंदगी देखी है वह शर्मनाक है वह चाहता है कि इस समस्या को लेकर लोग जागरूक हो, उसने अपने बैग की साइड की जेबों से कचरा भी निकाल कर दिखाया जो उसने रास्ते से समेटा था और उसे यथा स्थान यानी कि डस्टबिन में पहुंचाया।

29 जुलाई 2021 को हिमाचल प्रदेश के सुंदर नगर से हितेश द्वारा यात्रा प्रारंभ की गई और वहां से अनेकों शहरों को घूमते हुए आज वह शिवपुरी पहुंचे,यहां पर उन्होंने श्री बालाजी धाम मंदिर पर भंडारा भी ग्रहण किया और शिवपुरी शहर की प्रशंसा भी की। होटल वरुण इन के कमरा नंबर 206 में ठहरे हितेश के पैरों में बड़े बड़े जख्म घाव है।