पुलिस की नौकरी छोड़ मौनी महाराज ने चुना था अध्यात्म का रास्ता: केपी सिंह कक्काजू- Shivpuri News

शिवपुरी। गत दिवस तुलसी आश्रम बड़े हनुमान मंदिर के संस्थापक तपस्वी श्रीरामदास जी मौनी महाराज की ग्याहरवीं पुण्यतिथि पुष्पांजलि सभा के साथ सनातन रीतिरिवाज से महामण्डलेश्वर पुरूषोत्तमदास महाराज के सानिध्य में मनाई गई।

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री और वर्तमान पिछोर विधायक केपी सिंह कक्काजू थे वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री मंहत रामभजन महाराज ग्वालियर वालों ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष जयभान सिंह पवैया, कोलारस विधायक वीेरन्द्र रघुवंशी, कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष श्री प्रकाश शर्मा एवं भाजपा के जिलाध्यक्ष राजू बाथम रहे। इस अवसर पर जानकी सेना संगठन ने निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली बालिकाओं एवं महिलाओं को प्रमाण पत्र भी प्रदान किए।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केपी सिंह कक्काजू का स्वागत अखिल भारतीय ब्राह्यण महासभा के जिलाध्यक्ष पुरूषोत्तमकांत शर्मा ने किया। अतिथियों ने तपस्वी संत मौनी महाराज के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर पूर्व मंत्री केपी सिंह कक्काजू ने कहा कि मौनी महाराज पूर्व में पुलिस विभाग में थे और उन्होंने नौकरी से त्यागपत्र देकर आध्यात्म का रास्ता चुना, जब मैं 11 साल का था तब से उन्हें जानता हूं, वे एक तपस्वी संत थे, उनके उत्तराधिकारी पुरूषोत्तमदास महाराज भी उनके बताए मार्ग पर चलकर सनातन धर्म का प्रचार कर रहे हैं।

बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष जयभान सिंह पवैया ने अपने उद्बोधन में कहा कि मैं भी मौनी महाराज नृत्यगोपाल दास महाराज का शिष्य था, यहां मौजूद हम सब गुरूभाई हैं। कोलारस विधायक वीरेन्द्र रघुवंशी ने कहा कि इस प्रजातंत्र में संतों के स्वावलंबन, स्वाभिमान एवं स्वाधीनता से सूत्रों का दिग्दर्शन होता है। मदनलाल महाराज खनियांधाना वालों ने मौनी महाराज के जीवन पर प्रकाश डाला। आभार प्रदर्शन पुरुषोत्तमदास महाराज ने अंत में आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन महावीर मुद्गल ने किया तथा राम आचार्य महायज्ञ वृंदावन से पधारे महाराज परमेश्वर दास द्वारा सम्पन्न कराया इस अवसर पर जानकी महल का भी उद्घाटन अतिथियों द्वारा किया गया।

कार्यक्रम में बालकदास त्यागी, बदरवास से श्री महंज रामगिरी महाराज, अखाड़ा संत जय विजय भारती, महंत महामण्डलेश्वर, अमरदास महाराज, राष्ट्रीय कथावाचक विनोद विहारी वृंदावनधाम, नारायण दास जी, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष जगमोहन सिंह सेंगर, पूर्व शहर कांग्रेस अध्यक्ष शिव प्रताप सिेंह कुशवाह, विजय सिंह चौहान, राजेश पाठक, अखिल भारतीय ब्राह्यण समाज सनातन के जिलाध्यक्ष पुरूषोत्तकांत शर्मा, राजकुमार सरैया, जानकी सेना के अध्यक्ष विक्रम रावत, जानकी सेना के प्रवक्ता सुनी उपाध्याय, ब्राह्यण समाज के रामजी व्यास, भाजपा नेत्री शशि पाराशर, मनोहर मेहरा भोपाल, अमन गोयल, संतोष शर्मा, कौशल गौतम, महेन्द्र शर्मा, हरिशंकर दुबे, पवन अवस्थी, विनोद मुदगल एवं सूर्या मित्र मण्डल मौजूद थे। इस अवसर पर भण्डारा प्रसादी का भी आयोजन किया गया।