रन्नौद का प्राचीन शिवमठ ढहने वाला है: अदभुत निर्माण कला की मिशाल, लेकिन रास्ते के नाम पर दलदल - kolaras News

मोहम्मद फरहान काजी रन्नौद। शिवभक्ति की प्रतीक मठ प्रशासन की बेरूखी होने के कारण ढहने को हैं। रन्नौद से इस मठ पर पहुंचना मानो रास्ते से जंग लडना हैं। रन्नौद से अंदर करीब डेढ़ किमी तक आपको पैदल जाना पड़ेगा साथ ही कीचड़ और नालों से गुजरकर मठ तक पहुंचना होगा।

जिला मुख्यालय से लगभग 80 किमी दूर रन्नौद में यह मठ है। जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने की बड़ी-बड़ी बातें नेताओं व प्रशासनिक अफसरों द्वारा की जाती हैं लेकिन प्राचीन खोकई मठ को जाने वाला बदहाल रास्ता यह बताता है कि यहां पर बातें खूब हुईं लेकिन काम कुछ नहीं हुआ।

9वी और 10 वीं शताब्दी बना है मठ

रन्नौद के प्राचीन खोकई मठ के निर्माण की खासियत है कि बड़े-बड़े पत्थरों को बिना किसी गारे के साथ जोडा गया हैं,इस निर्माण में भारतीय विज्ञानकला की एक मिशाल है कि बिना किसी गारे का उपयोग किए हुए हजारो सालो में इसके जोड नही खुले है। इसमें खुला आंगन है जिसके चारों ओर बरामदा है तथा इससे लगे हुए कमरे बने हैं। कदवाया, सुरवाया तथा तेरही के मठों की तरह इस मठ का निर्माण भी 9वी और 10 वीं शताब्दी के दौरान शैव मत अनुयायियों के निवास हेतु किया गया था।

रास्ता न होने के कारण खेतो और दलदल से निकलना पडता हैं

प्राचीन खोकई मठ केंद्रीय संरक्षित इमारत है। इसके रखरखाव की जिम्मेदारी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा की जाती है। इसके बाद भी यहां पर इस प्राचीन मठ को जाने वाले दो किमी के रास्ते की हालत खराब होने पर किसी भी जिम्मेदार अधिकारी ने कोई गौर नहीं किया।

शिवपुरी के वरिष्ठ लेखक प्रमोद भार्गव ने बताया कि इस मठ का निर्माण 9वी और 10 वीं शताब्दी के दौरान शैव मत अनुयायियों ने किया। इस मठ का ऐतिहासिक महत्व है। इसके बाद भी यहां तक जाने वाले रास्ते की हालत खराब है। यह प्रशासनिक लापरवाही का नमूना है।

लेखक डॉ अजय खेमरिया ने कहा कि हम मप्र में पर्यटन को बढ़ावा देने की बातें करते हैं लेकिन ऐतिहासिक और पर्यटन महत्व के स्थलों की ओर जाने वाले रास्तों पर भी प्रशासन का कोई ध्यान नहीं दे रहा। पर्यटक अतुल गौड़ और तीर्थराज भारद्वाज ने मांग की है कि यहां पर आवागमन के साधन बनाए जाएं साथ ही साइनेज बोर्ड लगाए जाए। जिससे बाहर से आने वाले पर्यटक इन स्थलों का भ्रमण कर सकें।

इनका कहना है
आपके द्वारा बताया गया है बारिश बन्द होते ही हम रोड़ बनाए जाने का काम करेंगे, अभी बारिश का सीजन है फिलहाल कुछ नही कर सकते। महेश कुमार जाटव सीएमओ रन्नौद