शिवपुरी में बाढ़ के बाद से यशोधरा राजे ने डाला डेरा, लगातार कर रही है निरीक्षण, राहत कार्य के लिए बैठक- Shivpuri News

शिवपुरी। प्रदेश सरकार की वरिष्ठ मंत्री और शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया ने शिवपुरी जिले में हो रही भारी बरसात के कारण उपजे हालात पर नियंत्रण पाने हेतु शिवपुरी में डेरा डाल दिया है। यशोधरा राजे तीन अगस्त से शिवपुरी में जमी हुई हैं और वह स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। एक ओर वह बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण कर रही है और राहत एवं बचाव कार्यो का जायजा ले रही हैं।

वहीं अधिकारियों से चर्चा कर कहां-कहां बचाव कार्य किए जाने हैं इसके निर्देश दे रही हैं। भारी बरसात के कारण शिवपुरी में विद्युत व्यवस्था पूरी तरह तहस-नहस हो गई थी और कई इलाकों में तो 60-60 घंटे तक लाईट नही आई थी। इसके लिए यशोधरा राजे ने विद्युत अधिकारियों की बैठक लेकर शिवपुरी में जल्द से जल्द लाईट की सप्लाई बहाल करने के निर्देश दिए।

किसानों की फसल के नुकसान हेतु सर्वे के निर्देश भी यशोधरा राजे ने दिए और कहा कि किसानों को हर संभव मदद दी जाएगी। समाचार लिखे जाने तक यशोधरा राजे शिवपुरी में ही जमी हुई हैं और वह जहां-जहां आवश्यकता होती है अपनी भूमिका सुनिश्चित कर रही हैं। नगर पालिका अधिकारियों को यशोधरा राजे ने शहर की सफाई व्यवस्था के निर्देश दिए और कहा कि बहुत जल्द से जल्द शहर की व्यवस्थाओं में सुुधार किया जाए।

3 अगस्त को यशोधरा राजे ने अधिकारियों के साथ बाढग़्रस्त क्षेत्रों का भ्रमण किया और शिवपुरी के बिची ग्राम में पहुंची। जहां बाढ़ में तीन लोग फंसे हुए थे। पेड़ पर बैठे लल्लूराम आदिवासी, लखन आदिवासी और देवेंद्र आदिवासी को बचाव दल ने सुरक्षित बाहर निकाला। 4 अगस्त को यशोधरा राजे ने पुलिस कंट्रोल रूम में विद्युत विभाग और नगर पालिका के अधिकारियों की बैठक ली।

शहर की साफ-सफाई और विद्युत व्यवस्था के संबंध में निर्देश दिए। आपदा के दौरान राहत एवं बचाव कार्य के संबंध में भी अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने इसके बाद बाढ़ प्रभावित ग्रामों का भ्रमण किया। उन्होंने नरवर के कालीपहाड़ी गांव पहुंचकर सरपंच और ग्रामीणों से चर्चा की। यशोधरा राजे सिंधिया ने ग्रामीणों से कहा कि आपदा में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के प्रयास जारी हैं।

पूरी टीम मिलकर काम कर रही है। ग्रामीणों की फसल का नुकसान हुआ है उसका भी सर्वे किया जाएगा और मदद की जाएगी। 5 अगस्त को भी यशेोधरा राजे ने बाढग़्रस्त क्षेत्रों का निरीक्षण किया। उन्होंने नरवर क्षेत्र के ग्राम कालीपहाड़ी पहुंचकर राहत एवं बचाव कार्य का जायजा लिया और ग्रामीणों से चर्चा की। कालीपहाड़ी के आसपास के कुछ गांवों में नदी में जल स्तर बढऩे से जलभराव की समस्या उत्पन्न हुई है।

राहत एवं बचाव कार्य में एसडीआरफ की टीम लगी है। यशोधरा राजे ने गांव के सरपंच से भी चर्चा की और कहा कि आसपास के गांव में जो लोग हैं उनसे लगातार सम्पर्क करें और उन्हें गांव से बाहर सुरक्षित स्थान पर आने के लिए कहें। यशोधरा राजे ने नगर पालिका अधिकारियों के साथ बैठक में सीएमओ को सख्त निर्देश दिए कि शहर में कहीं भी गंदगी नहीं दिखनी चाहिए। घरों के बाहर कचरा एकत्रित न हो।

नगर पालिका पूरी टीम को लगाकर शहर में साफ-सफाई कराए और जहां जलभराव की स्थिति है उसकी जानकारी उपलब्ध कराए। ताकि मलेरिया और अन्य जलजनित बीमारियां उत्पन्न न हों। 6 अगस्त को यशोधरा राजे ने अधिकारियों और वोलेंटियर के साथ बैठक की और आपदा राहत सर्वे को लेकर निर्देश दिए। यशोधरा राजे ने आज रेपिड स्पोंस टीम को रवाना किया। यह टीम हर वार्ड में जाकर सर्वे स्पे्र और फॉङ्क्षगंग का कार्य करेगी।