अधजले शव को कुत्ते बहार खीच लाए,परिजन अस्थि संचय करने पहुंचे तो देखी शव की दुर्गति- Shivpuri News

शिवपुरी। खबर जिल के पोहरी अनुविभाग के ग्राम सलोदा से आ रही है कि गांव के एक युवक की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया गया। बारिश होने के बजह से जलती चिता बुझ गई और अधजले शव को कुत्ते बहार खीच ले गए। जब परिजन उठावनी के लिए शमशान गए तो उन्होने शव की दुर्गति देखी तो उन्होने पुन:फिर शव का अंतिम संस्कार किया।

जानकारी के अनुसार ग्राम सालोदा में 20 अगस्त की शाम गांव दिनेश कुशवाह के शव का अंतिम संस्कार होने के बाद हुई बारिश के कारण जलती चिता की आग बुझ गई। आग बुझ जाने के कारण शव पूरी तरह से राख नही हो सका इस कारण इस अधजले शव को चिता में से कुत्ते बहार खीच ले गए गए।

शव की इस तरह दुर्गति का परिजनो को जब पता चल जब वे पूरी तैयार से अस्थि संचय को आए थे। परिवार वालो ने जब शव को इस तरह से देखा तो उसका पुन:अंतिम संस्कार किया।

ग्रामीणो के अनुसार दिनेश की मौत ग्वालियर में उपचार के दौरान हो गई थी। ग्वालियर में दिनेश की मौत हो जाने के कारण दिनेश का शव शाम को आया इसलिए परिजन और ग्रामीणो ने देर शाम को अंतिम संस्कार कर वापस लौट आए। इसी दौरान बारिश हो गई।बारिश के कारण जलती चिता की आग बुझ गई। ग्रामीणो का कहना है कि अगर शमशान घाट पर टीनशेड होता तो शायद न चिता बुझती बुझती और न ही शव की यह दुर्गति होती।

इनका कहना है

यह बाती सही है कि चिता बुझ गई थी और शव की दुर्गति हुई। उक्त शमशान घाट करीब 6 से 7 साल पुराना हैं तब शमशान घाटो पर टीनशेड का प्रावधान नही था। इस घटना के बाद में शमशान घाट पर टीनेशेड का डिमांड भेज रहा हूं।
दिनेश वर्मा,पंचायत सचिव

यह बेहद दुखद घटना है,टीन शेड का काम बहुत महंगा काम नही हैं। यह तो पंचायत खुद भी करवा सकती है। मैं पूरे जिले भर से रिर्पोट मंगवाता हूं कि कहां कहां शमशान घाट पर टीनेशेड नही हैं। सभी शमशान घाट पर टीनेशेड,सहित अन्य सुरक्षा के पूरे इंतजाम के निर्देश में जारी करता हूं।
एचपी वर्मा,सीईओ जिला पंचायत