लालाजी हडताल पर: कलमबंद हड़ताल के बाद पटवारियों ने तहसील में जमा किए अपने बस्ते - Shivpuri News

शिवपुरी। अपनी मांगों को लेकर मंगलवार से पटवारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। पटवारियों ने तहसील कार्यालय की कानूनगो शाखा में बस्ता जमा कर अपनी मांगों को माने जाने तक काम शुरू न करने की बात कही है।

अगस्त शुरुआत से पटवारी विरोध जता रहे हैं। 2 अगस्त से 3 दिन तक सामूहिक अवकाश पर रहे। 5 अगस्त से ऑनलाइन काम बंद कर दिए और अब अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए । इससे राजस्व विभाग के जरूरी काम के साथ जाति, निवासी व आय प्रमाण पत्र नहीं बन पा रहे। वहीं फसल का सर्वे, राजस्व न्यायालय में चलने वाले प्रकरण में प्रतिवेदन और अन्य काम भी नहीं हो पा रहे हैं।

जिले में 700 पटवारी व इतने ही हलके हैं। पटवारी संघ जिलाध्यक्ष गोविंद श्रीवास्तव ने बताया कि सरकार से लंबे समय से मांगों को पूरा करने के लिए आवाज उठा रहे हैं। पटवारी संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि उनकी मुख्य तीन ही मांगे हैं। इसको लेकर एक माह से सांकेतिक विरोध हो रहा था लेकिन सरकार के नहीं मानने पर हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है।

यह है मुख्य मांगें- सरकार की 2019 में हुई घोषणा अनुसार पटवारियों का वेतनमान 5200-20200+2800 ग्रेड पे करने, पटवारी का पद जिला स्तर का है फिर भी उन्हें गृह जिलों से कई किमी दूर नियुक्ति दी जाती है। इसे समाप्त कर गृह जिलों में पदस्थापना देने और सीपीसीटी परीक्षा की अनिवार्यता को समाप्त करने की मांग की जा रही है।

तहसीलदार को जमा किए बस्ते

कुछ पटवारियों ने मंगलवार तो कुछ पटवारियों ने बुधवार को बस्ते जमा किए। तहसीलदार को पीले बस्ते जमा करने के बाद पटवारियों ने मांगें जल्द पूरी करने की बात कही। उनके कलमबंद हड़ताल पर जाने से आमजन के जरूरी काम नहीं हो सकेंगे। कानूनगो शाखा में पटवारियों ने बस्ते जमा किए।

तो खोलेंगे मोर्चा
चूंकि हमारे यहां बाढ़ है इसलिए हमने बस्ते तो जमा कर दिए है और 15 अगस्त तक हम इस प्राकृतिक आपदा के चलते सर्वे मं सहयोग करेंगे। यदि 15 अगस्त के बाद भी हमारी मांगें नहीं मानी जाती तो फिर हम भी मोर्चा खोल देंगे।
गोविंद श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष, पटवारी संघ जिला शिवपुरी।