रेन्झा घाट पर सिंध के उफनते पानी में फंसे 100 ग्रामीणो का किया सुरक्षित रेस्क्यू: प्रशासन रात भर रहा मौके पर - kolaras News

शिवपुरी। खबर जिले के कोलारस अनुविभाग के गुना,अशोकनगर जिले के बोर्डर पर स्थित ग्राम रेन्झा घाट से आ रही है,जहां बीते रोज गुना अशोक नगर में हो रही तेज बारिश के चलते सिंध नदी उफान पर है।

जिसके चलते रात्रि में प्रशासन को सूचना मिली कि ग्राम रेन्झा घाट में लगभग 100 ग्रामीण फॅसे हुए है,इस सूचना पर विधायक वीरेन्द्र रघुवंशी,कोलारस एसडीएम गणेश जायसवाल सहित पूरा प्रशासनिक अमला मौके पर पंहुचा और SDRF एंव NDRF की टीम ने नाव की मदद से इस गांव में पहुँचे और नाव के जरिये इस गांव में पहुँचे।

परंतु जैसे ही टीम पहुँची ग्रामीणों ने आने से इनकार कर दिया। बमुश्किल 4 लोग टीम के साथ लौटे। उसके बाद इस मामले की सूचना कलेक्टर ओर एसपी को दी। जिसपर दोनों मोके पर पहुँचे।

बताया जा रहा है कि बचाब दल जब आज भोर होते ही नाव के द्धवारा रेन्झा पहुंचा तो ग्रामीण अपना घर छोडने को तैयार नही थे वह नशे में बताए जा रहे थे। ग्रामीणो के इंकार करने पर एसडीएम गणेश जायसवाल पब्लिक पर भड़क गए,इसके बाद ही ग्रामीण नाव में बैठने को तैयार हुए। उसके बाद आज सुबह लगभग 100 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया है। बताया जा रहा हैं कि 66 लोगो ने SDRF और 44 NDRF की टीम ने नाव से निकाला।

2 घंटे बाद प्रारंभ हो सका रेस्क्यू

जिले में बाढ़ के हालात है, इसी बीच रेस्क्यु दल एसडीआरफ़ बिना हथियारों के लड़ाई लड़ने पहुँच रही है। हालात यह है कि एसडीआरएफ के पास न तो सर्च लाइट थी और न ही पेट्रोल।

जिसके चलते रेन्झा घाट पर पहुँचने के बाद टीम ने कहा कि उनके पास वोट कर लिए पेट्रोल और आयल नही है। जिसके चलते टीम को बदरवास भेजा जहाँ से पेट्रोल मंगाया तब कही वोट स्टार्ट हो सकी। पेट्रोल के अभाव में रेस्क्यू 2 घंटे लेट हुआ अगर इस 2 घंटे में अगर कुछ अनहोनी हो जाती तो इसकी जिम्मेदारी किसकी होती यह सवाल बडा है।

इनका कहना हैं

आप जो बता रहे वह हमे टीम लीडर ने हमें बताया नही है बाकी पेट्रोल की व्यवस्था संबधित अनुविभाग केे एसडीएम की रहती हैं कही भी हम पेट्रोल लेकर साथ नही चल सकते हैं।
राजपाल मीणा,हॉमगार्ड कंमाडेंड शिवपुरी