जांच के नाम पर लटकाया जा रहा हैं मोर के अंतिम संस्कार के मामलो को: जांच तो छोडो नोटिस तक नही - Shivpuri News

शिवपुरी। जांच के नाम पर मामले को लटकाने और बचने और बचाने की पुरानी परापंरा हैं शासकीय विभागो की,शिवुपरी की मीडिया ने पिछले कुछ माह पूर्व हुए मोर के अंतिम संस्कारो के मामले में प्रोटोकॉल का पालन नही किया मीडिया से बात करते समय वनविभाग के अधिकारियो का रटा रटाया जबाब आया है मामले को दिखवाते हैं और जांच करवाते हैं।

स्टे पर रूकी रेंजर कृतिका शुक्ला ने तोडा मोर के अंतिम संस्कार का प्रोटोकॉल

14 जुलाई को वन क्षेत्र सीमा में आने वाले रन्नौद वन परिक्षेत्र की खरेह चौकी के मुड़ेरी वन क्षेत्र में राष्ट्रीय पक्षी मोर की अज्ञात कारण से मौत हो गई,मृत मोर की सूचना वन विभाग को दी गई जिसके उपरांत उक्त मोर को वनपाल उक्त मोर को अपने कब्जे में लिया।

बताया गया है कि वानपालो ने अपनी रेंजर मेडम को मृत हुई मोर की घटना की जानकारी दी और मोर का पीएम कराने के लिए कहा,लेकिन मेंडम ने वनपालो को सीधे बिना पीएम कराए मृत मोर का अंतिम संस्कार करने का आदेश दे दिया। बताया जा रहा है की वीटगार्डो ने मृत मोर का अंतिम संस्कार का प्रोटोकॉल तोडते हुए सीधे सीधे अंतिम संस्कार कर दिया।

यहां अधजली मोर को छोड भाग गए थे वनकर्मी

13 अप्रेल 2021 को रन्नौद चौकी के अंतर्गत मामला प्रकाश में आया था जहां उक्त मोर को अध जला छोड़ दिया था। मीडिया के खबरो के प्रकाशन के बाद एसडीओ ने इस मामले में जांच कराने के आदेश दिए थे,लेकिन 4 माह के गुजर जाने के बाद भी जांच तो छोडिए किसी की भी प्रकार का नोटिस भी जारी नही हुआ।


वही बदवास रेंज में भी मार का आधा कटा धड मिला था और कोलारस वन परिक्षेत्र के देरवारा में पत्थर मार कर मोर की हत्या कर दी गई थी। किसी भी मामले में दोषियो पर कार्रवाई नही होने के कारण लिखा जा सकता हैं वन विभाग ही स्वयं मोर का सम्मान नही करता हैं,लगतार राष्ट्रीय पक्षी मोर के अंतिम संस्कार के प्रोटोकॉल तोडे जा रहे हैं।

एसडीओ एमके सिंह ने यूं मारा यूटर्न

15 जुलाईः आपके द्वारा इस मामले की जानकारी दी गई है। इसकी जांच मैं करा रहा हैं और इसमें जो भी दोषी मिलेगा उस पर कार्रवाई करेंगे।

19 जुलाई के बयान
बिना पीएम के राष्ट्रीय पक्षी मोर का अंतिम संस्कार हुआ था उक्त मामले में हमने इंटरव्यू दिया था,अब हमे कुछ नही पता क्या कार्यवाई हुई है अभी तक,डीएफओ मेडम जांच अधिकारी नियुक्त करेंगी तभी जांच होगी अभी कुछ नही हुआ कुल मिला कर।

अब इस मामले में नोटिस या किसी अन्य घटना क्रम की बात होती तब तक एम के सिंह ने फोन कॉल काट मामले से इतिश्री दर्ज कोलारस को बचाने में भरपूर प्रयास जारी हैं।