दिल्ली पुलिस का बयान शिवपुरी पुलिस के लिए सिरदर्द बन सकता है, मामला 3500 करोड़ की हेरोइन का - Shivpuri News

शिवपुरी।
दिल्ली और मुंबई पुलिस द्वारा पिछले दिनों पकड़ी गई 3500 करोड रुपए की हेरोइन के मामले में अब शिवपुरी कनेक्शन सामने आ रहा है। दिल्ली पुलिस के स्टेटमेंट में बताया गया है कि शिवपुरी में हीरोइन की प्रोसेसिंग की जानी थी। यानी देशभर में सप्लाई होने वाली हीरोइन कि कच्चे माल को यहां फाइन क्वालिटी के लिए प्रोसेस किया जाता है। दिल्ली पुलिस का यह बयान शिवपुरी पुलिस के लिए सिरदर्द बन सकता है।

जैसा कि विदित है कि बीते 3 जुलाई को डीआरई की टीम ने जिले के कोलारस नगर में स्थित एक गोदाम में छापामार कार्रवाई की। इस कार्रवाई में गोदाम के अंदर रखे गए लगभग 4 हजार बोरियो को डीआरआई ने बहार सडक पर निकलवाया और जांच की। उक्त कटटे जिप्सम के बताए जा रहे थे। यह कार्रवाई क्या थी किस लिए की जा रही थी यह स्थानीय नागरिको और मीडिया से समझ आ रही थी। डीआरआई की टीम को प्रोटेक्शन दे रही कोलारस पुलिस भी इस कार्रवाई से अंजान थी।

डीआरआई ने यह कार्रवाई इस कारण की थी कि मुबई पोर्ट से पकडी गई 6 कट्टे हेरोइन की तस्करी जिप्सम के कटटो में छुपाकर की जा रही थी और संधू एक्सपोर्ट द्वारा आयात किए गए दो कंटेनरों की जांच के दौरान पकडी थी। दोनो कंटेनरों में 700 कटटे थे और इसमें 294 किलो हेरोइन के 6 कटटे छुपे थे। इस मामले में डीआरआई ने प्रभुजीत नामक तस्कर को गिरफ्तार किया था।

प्रभुजीत के फोन कॉल की जांच ओर पूछताछ के बाद कोलारस में डीआरआई ने छापामार कार्रवाई की थी। डीआरआई इस सिंटीकेट के तोडने और तार से तार मिलाने के क्रम में पूरे देश में छापामार कार्रवाई कर कर थी कि देश की एनसीबी ऐंजेंसी को एक और सफलता दिल्ली में मिली। यहां एक और तस्कर गिरफ्तार किया और उससे पूछताछ में फरिदाबाद के एक किराए के मकान से बडी मात्रा में हेरोइन बरामद की। एनसीबी ने इस मामले में 4 तस्कारो से पूछताछ की।

इस पूछताछ में शिवपुरी जिले की कोलारस तहसील का नाम भी आ गया। 2 दिन पूर्व दिल्ली एनसीबी की एक टीम कोलारस अनुविभाग के भटौआ गांव के फार्म हाउस की जांच की। शिवपुरी पुलिस के पास कोई ऑफिशियल इंफॉर्मेशन नहीं है कि इस जांच में क्या मिला लेकिन सूत्रों का कहना है कि 2 दिन पूर्व एक फार्म हाउस के समीप जंगलो में एक फार्म हाउस के मालिक ने कुछ सफेद सा पदार्थ जलाया हैं,ऐसा माना जा रहा है कि दिल्ली में पकड़ी गई हेरोइन के बाद इस पदार्थ को जलाया गया हो। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के सीपी ठाकुर ने बताया कि यह आपरेशन महिनो से चल रहा था कुल 364 किलो हेरोइन बरामद की है।

हेरोइन की खेप कंटेनर्स में छुपाकर संमदर के रास्ते मुबंई से दिल्ली आई थी। मध्यप्रदेश के शिवपुरी में हेरोइन को एक फेक्ट्री में फाइन क्वालिटी के लिए प्रोसेस किया जाता था। इसके बाद यह हेरोइन पंजाब जानी थी। इसी सिंटीकेट के तार पाकिस्तान से जुडे है।

अगर दिल्ली पुलिस के सीपी ठाकुर के बयान पर गौर करे तो शिवपुरी के लिए यह संकट की खबर है कि शिवपुरी के कोलारस में हेरोइन जैसे मादक पदार्थ को फाइंड क्वालिटी में तब्दील करने के लिए प्रोसेसिंग यूनिट संचालित होती है।