भाजपा में सिंधिया खेमे का कब्जा: जिले के 7 सिंधिया सिपाही बने प्रदेश कार्यसमिति सदस्य - Shivpuri News

शिवपुरी। लंबे इंतजार के बाद भारतीय जनता पार्टी के संगठन में सिंधिया खैमा पार्टी की मुख्य धारा में पूरी ताकत के साथ समाहित हुआ है। शिवपुरी जिले से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने 13 पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रदेश कार्यसमिति सदस्य की जिम्मेदारी सौंपी है। जिनमें से 7 सिंधिया सिपाही हैं, जो पिछले सवा साल से पार्टी में निर्वासित जीवन जी रहे थे।

राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया 9 जून को भोपाल पहुंच रहे हैं। उनके आगमन के पहले भाजपा ने प्रदेश कार्यसमिति सदस्यों की घोषणा कर दी। प्रदेश कार्यसमिति में 162 सदस्य, 218 विशेष आमंत्रित सदस्य और 23 स्थाई आमंत्रित सदस्य हैं। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को स्थाई आमंत्रित सदस्य बनाया गया और पूरे प्रदेश से उनके बड़ी संख्या में समर्थक प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बने हैं।

जहां तक शिवपुरी जिले का सवाल है,भाजपा ने 13 प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बनाए हैं। जिनमें मूल भाजपा के 6 और सिंधिया खैमे के 7 कार्यकर्ता शामिल हैं। खास बात यह है कि शिवपुरी जिले के जिन सिंधिया समर्थकों को प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बनाया गया है। उनमें पांचों विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व है और जातिगत समीकरणों को ध्यान में रखा गया है।

शिवपुरी विधानसभा क्षेत्र से सिंधिया समर्थक विजय शर्मा, कोलारस से हरवीर सिंह रघुवंशी, महेंद्र सिंह यादव, बैजनाथ सिंह यादव, पोहरी से केशव सिंह तोमर, करैरा से संदीप माहेश्वरी और पिछोर से महाराज सिंह लोधी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बने हैं।

इनके अलावा शिवपुरी विधायक और प्रदेश सरकार की मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी, जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष राघवेंद्र गौतम, पोहरी के पूर्व विधायक प्रहलाद भारती, भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सुशील रघुवंशी और कोलारस के सुरेंद्र शर्मा शामिल हैं।

कोलारस से सिंधिया ने बनवाए तीन प्रदेश कार्यसमिति सदस्य

कोलारस विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के विधायक वीरेंद्र रघुवंशी हैं, जो कांग्रेस से भाजपा में आए थे। कांग्रेस में श्री रघुवंशी को कट्टर सिंधिया समर्थक माना जाता था। लेकिन भाजपा में शामिल होने से पूर्व श्री रघुवंशी ने सिंधिया पर हमला बोलते हुए कहा था कि उन्हीं के कारण वह भाजपा में शामिल हो रहे हैं।

सिंधिया की इसी कारण कोलारस विधानसभा क्षेत्र पर विशेष नजर रहती है। लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में सिंधिया की जीतोड़ मेहनत के बावजूद वीरेंद्र रघुवंशी चुनाव जीतने में सफल रहे और सिंधिया समर्थक महेंद्र सिंह यादव कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में पराजित हो गए थे। लेकिन सिंधिया अब भाजपा में हैं और सिंधिया ने कोलारस विधानसभा क्षेत्र से तीन-तीन प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बनाने मेें सफलता हांसिल की है।

इनमें महेंद्र सिंह यादव पूर्व विधायक हैं और पूर्व विधायक स्व. रामसिंह यादव के सुपुत्र हैं। जबकि हरवीर सिंह रघुवंशी सांसद प्रतिनिधि रहे हैं और तीसरे बैजनाथ सिंह यादव जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष रहे हैं।

बिरथरे, खटीक, धैर्य और अजीत हुए आउट

पूर्व कार्यकारिणी में पोहरी के पूर्व विधायक नरेंद्र बिरथरे, कोलारस के पूर्व विधायक ओमप्रकाश खटीक, भाजपा के वरिष्ठ नेता धैर्यवर्धन शर्मा और अजीत जैन पार्टी में प्रदेश कार्यकारिणी के पद पर पदस्थ थे। लेकिन इस बार उन्हें प्रदेश कार्यसमिति में शामिल नहीं किया गया है।