कोरोना कर्फ्यू के दौरान अप्रैल-मई में 1033 रजिट्रियां, जून के 29 दिनों में 2628 रजिस्ट्रियां

शिवपुरी। जमीनों की पुरानी गाइड लाइन पर 30 जून तक छूट के चलते इस महीने रजिस्ट्रियों की संख्या बढ़ गई है। अप्रैल व मई के मुकाबले जून के 29 दिन में ढाई गुना अधिक रजिस्ट्रियां हो गईं हैं। वहीं पंजीयन शुल्क में पुरुषों की तुलना में महिलाओं को छूट देने पर शिवपुरी शहर में महिलाओं के नाम से अब 80% जमीनें महिलाओं के नाम से खरीदी जा रहीं हैं। अब प्रदेश सरकार ने पुरानी गाइडलाइन के आधार पर 15 जुलाई तक रजिस्ट्रियों पर छूट दे दी है। 16 जुलाई से गाइडलाइन की नई दरें लागू होंगी।

कोरोना कर्फ्यू के चलते पूरे जिले में अप्रैल और मई महीने में कुल 1033 रजिस्ट्रियां हुईं थीं। लेकिन कर्फ्यू हटने के बाद जून महीने में रजिस्ट्रियों की संख्या बढ़ती चली गई। 29 जून तक 2 हजार 628 रजिस्ट्रियां हो चुकी हैं। पूरे दिन में कुल 113 रजिस्ट्रियां हुईं हैं। यानी इस महीने रजिस्ट्रियाें की संख्या 2700 के पार पहुंच जाएगी। हालांकि शासन ने पुरानी गाइड लाइन में छूट बढ़ाकर 15 जुलाई कर दी है। यह आदेश मंगलवार को ही जारी हुआ है। अब लोगों के पास रजिस्ट्रियां कराने का 16 दिन का और वक्त है।

रजिस्ट्रियाें में ग्वालियर पहले, मुरैना दूसरे और शिवपुरी तीसरे स्थान पर

29 जून तक की स्थिति में ग्वालियर संभागीय मुख्यालय में सबसे अधिक 4456 रजिस्ट्री हुईं हैं। इसके बाद मुरैना जिले में 3745 रजिस्ट्रियां हुईं हैं। मुरैना के बाद शिवपुरी जिले में 2628 रजिस्ट्रियां हो चुकी हैं। ग्वालियर-चंबल संभाग में सबसे कम 675 रजिस्ट्रियां श्योपुर, उसके बाद दतिया में 1551 हुईं हैं।

पंजीयन शुल्क में छूट : जिले में महिलाओं की संपत्तियों में भागीदारी 20% से बढ़कर 50% पार हुई

रजिस्ट्रियों में पुरुषों का पंजीयन शुल्क 3% रहता है। लेकिन सरकार ने महिलाओं के लिए 2% छूट घटाकर 1% कर दी है। इसी के चलते शिवपुरी जिले में महिलाओं के नाम से संपत्तियों की खरीद-फरोख्त अधिक होने लगी है। जिले में महिलाओं की 20% भागीदारी रहती थी, लेकिन अब 50% पार हो गई है। शिवपुरी शहर में महिलाओं के नाम से रजिस्ट्रियां 75% से 80% तक होने लगी हैं। हालांकि शहर की तुलना में ग्रामीण क्षेत्र में संख्या कम है।

पुरानी गाइड लाइन पर छूट 30 जून तक थी। लेकिन 29 जून को सरकार ने आदेश जारी कर छूट 15 जुलाई तक के लिए बढ़ा दी है। गाइड लाइन में छूट के कारण रजिस्ट्रियां भी अधिक संख्या में हो रहीं हैं। इससे लोगों को भी फायदा है। -
आरडी वर्मा, जिला रजिस्ट्रार शिवपुरी