CORONA से जंग लडने के लिए जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज ने बढाया स्टाफ, यह भी किया,पढिए पूरी खबर

शिवपुरी। आधे मार्च से कोरोना के विषय में कोई भी राहत भरी खबर सामने नही आई हैं लेकिन यह खबर आपको थोडी सी राहत प्रदान करेंगी,कि कोरोना से जंग लडने के लिए जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज ने अपना स्टाफ बढाया हैं। इससे कोविड 19 का ईलाज करा रहे मरीजो को और अधिक सुविधा मिलने की उम्मीद हैं।

जिला चिकित्सालय और मेडिकल कॉलेज में उपचार करा रहे कोरोना पीड़ितों की देखभाल के लिए अलग से लगभग आधा दर्जन चिकित्सकों को तैनात किए जाने के अलावा लगभग आधा सैकड़ा स्टाफ की भर्ती भी की गई है। इसमें नर्स, आयुष चिकित्सक भी शामिल हैं। साथ ही मेडिकल कालेज में भी व्यवस्थाओं को और दुरुस्त किया गया है।

मेडिकल कॉलेज के डीन अक्षय निगम का कहना है कि उनके पास रेमडेसिविर इंजेक्शन व आक्सीजन की कोई कमी नही है और मरीजों को उपचार देने के लिए तीन राउंड में 24 घंटे जेआर को तैनात किया गया है। इसके लिए कोरोना के लिए जिले की प्रभारी मंत्री बनाई गईं यशोधरा राजे सिंधिया लगातार अधिकारियों की मॉनिटरिंग कर रही हैं।

कोरोना वार्ड में पांच और चिकित्सकों की हुई तैनाती
शिवपुरी जिला चिकित्सालय में संचालित कोरोना वार्डों के लिए आज पांच और अन्य चिकित्सकों को मरीजों के इलाज के लिए तैनात किया गया है। जिन चिकित्सकों को तैनात किया गया है, उनमें माधव सक्सेना, आकाश यादव, नारायण कुशवाह, कुणाल एवं बदरवास से डॉक्टर श्री यादव शामिल हैं। ये चिकित्सक कोरोना मरीजों को उपचार देंगे।

पिछले तीन दिन में तैनात किया लगभग आधा सैकड़ा अमला
सीएमएचओ शिवपुरी अर्जुन लाल शर्मा का कहना है कि कोरोना से निपटने के लिए उन्होंने नर्स स्टाफ और आयुष चिकित्सकों की भर्ती की है। उन्होंने बताया कि पिछले तीन दिन में 33 नर्स स्टाफ और 15 आयुष चिकित्सकों की भर्ती की गई है, जिन्हें मरीजों की देखभाल व उपचार देने के लिए पिछले तीन दिन के अंदर जिला चिकित्सालय में तैनात किया गया है। यह सब इसलिए किया गया है जिससे कोरोना की जंग लड़ रहे मरीजों को उपचार में किसी भी तरह की कोई परेशानी ना आए और हालात बेहतर से बेहतर हो सकें।

अटेंडरों के लिए की गई है अलग से व्यवस्था
मेडिकल कॉलेज डीन अक्षय निगम का कहना है कि मेडिकल कॉलेज में उपचार ले रहे कोरोना मरीजों के अटेंडरों के लिए बाहर तंबू लगाकर उन्हें रुकने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा उन्हें भोजन की व्यवस्था भी कराई जा रही है। मेडिकल कॉलेज में पानी की कमी के संबंध में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए श्री निगम ने कहा कि पिछले महीने मेडिकल कॉलेज परिसर में छह वाटर कूलर लगाए गए हैं जिसके चलते पानी की यहां पर कोई कमी नहीं है।

साथ ही मरीजों के लिए ठंडे और गर्म पानी की अलग से व्यवस्था की गई है। मरीजों के लिए यहां जो भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है, वह टूरिस्ट विलेज से आ रहा है। उपचार में भी मरीजों के वार्डों में जेआर लगातार 24 घंटे तैनात किए गए हैं जो कि तीन राउंड में मेडिकल कॉलेज में उपचाररत मरीजों को देखते हैं।