रेत के चमचमाते काले करोबार में विधायकों से लेकर पूर्व विधायकों तक की हिस्सेदारी - Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी जिला प्रकृतिक संपदा से भरा पडा है। यह रेत और पत्थर कारोबार पर सबकी नजर रहती है। चाहे वह जिले का रसूख धारी हो या खाकी वाला नेता यहा जनता का चूना हुआ प्रतिनिधि,सभी को रेत और पत्थर के काले कारोबार में हिस्सेदारी चाहिए।

यहीं कारण है कि चाहे विधायक हों या फिर पूर्व विधायक सभी को रेत और पत्थर के अवैध उत्खनन से हर रोज लाखों रूपए कमाने में लगे है। प्रशासन है कि सत्ताधारी इन नेताओं पर हाथ डालने से पीछे हट जाते है क्योंकि इसमें मंत्रियों की भी साइलेंट पार्टनरशिप तक है। ऐसे में एक बात साफ है कि रेत के इस काले कारोबार में लाखों कमाने के लिए सब आपस में हिस्सेदारी भी कर रहे है।

करैरा में जसमंत पर लग चुके हैं आरोप

पूर्व विधायक जसमंत जाटव् ने तो सारी हदें ही पार कर दी थी। यहां उन पर रेत के अवैध उत्खनन के आरोप लगे तो उनके बेटे पर भी रेत के काले कारोबार में हिस्सेदारी और अवैध रेत उत्खनन कराने के आरोप लगे। इतना ही नहीं पूर्व विधायक के रिश्तेदार तक डंपरों से रेत के अवैध कारोबार को अंजाम देने में लगे थे। कार्रवाई होती तो लोग सीधे पूर्व विधायक से ही बात कराते थे।

कल्याणपुर है सोने की खान

कल्याणपुर की रेत खदान को सोने की खान कहा जाता है यहीं कारण है कि इसका ठेका होने के बाद भी कई लोग आसपास के इलाके से रेत का अवैध उत्खनन करने में लगे हैं। करैरा इलाका पूरी तरह से रेत के काले कारोबार के लिए जाना जाने लगा है। जिसमें विधायक मंत्रियों और व्यापारियों की पार्टनरशिप में रेत का काला कारोबार संचालित किया जा रहा है।

कोलारस विधायक रघुवंशी पर भी लगे आरोप

कोलारस विधायक वीरेन्द्र रघुवंशी पर भी रेत खनन के आरोप लगे है और बदरवास व कोलारस इलाके से उनके रिश्तेदार रेत का खनन करने में लगे हैं। ऐसे में कई बार विवाद भी सामने आया। इतना ही नहीं टोल प्लाजा पर भी डंपरों को निकालने को लेकर उनके रिश्तेदारों ने हंगामा तक खडा कर दिया था। हालांकि विधायक अपने आप को पाक साफ बताने से गुरेज नहीं कर रहे हैं।

बाहुवली विधायक पर भी लग चुके हैं पत्थर और रेत के खनन के आरोप

पिछोर के बाहुवली विधायक केपी सिंह की बात करें तो कांग्रेस के शासनकाल में इन्होंने जमकर पत्थर की खदानें चलाई और लाखों रूपए कमाया। इतना ही नहीं रेत के कारोबार में भी केपीसिंह ने लाखों के बारे न्यारे करें।

रांठखेडा के परिजन सक्रिय हुुए बैराड और पोहरी में

बैराड और पोहरी इलाके में रेत की कोई भी स्वीक्रत खदान नहीं है बावजूद इसके बैराड में बडे पैमाने पर रेत का काला कारोबार संचालित किया जा रहा है। पीडब्लयूडी मंत्री सुरेश रांठखेडा के परिजन सहित उनके सजातीय रेत के काले कारोबार से लाखों के बारे न्यारे करने में जुट गए है।

इतना ही नहीं इनका पंचायत सचिव भाई को तो पंचायत सेकेट्री की जगह ठेेकेदारी रास आ गई है और एक सजातीय ठेकेदार के साथ मिलकर पोहरी इलाके में सडकों का कारोबार किया जा रहा है।