पोहरी विधानसभा के थानों में बिना मंत्री जी के NOC के नही होती FIR: फरियादी को आरोपी बना दिया पुलिस ने - Pohri News

पोहरी। यह खबर कुछ कहती हैं,सीधे-सीधे लिखे तो मंत्री जी के बिना एनओसी के पोहरी क्षेत्र के थानो में एफआईआर नही होती है,अगर घटनाक्रम से कोई धाकड समाज का व्यक्ति जुडा हैं। आज बैराड थाने में ऐसा ही कुछ हुआ,अपने आप को मंत्री जी का समधि बताने वाले जगदीश धाकड ने एक युवक के साथ मारपीट की।

पीट कुटकर जब युवक थाने पहुंचा तो पुलिस युवक की फरियाद पर आदम चैक काटने का प्रयास किया,लेकिन जब मामला पुलिस अधीक्षक तक पहुंचा तो आरोपी जगदीश धाकड के खिलाफ बैराड पुलिस मामला दर्ज करने को राजी हुई,लेकिन पुलिस ने युवक पर भी क्रास कायमी कर दी।

जानकारी के अनुसार शिवपुरी निवासी मातादीन शर्मा आज सुबह किसी काम से बैराड़ गया था। जहां से वह अपना काम निपटाने के बाद शिवपुरी वापस आ रहा था, तभी थाने के सामने बदमाश जगदीश धाकड़ अपनी बाइक को सड़क के बीचों बीच खडा किए था। जिस पर मातादीन ने उससे कहा कि आप अपनी बाइक साईड में लगा लें। जिससे वह निकल सकें।

यह बात उक्त बदमाश को अपने सम्मान में ठेस पहुंचाने वाली लगी और उसने पहले मातादीन को कार से नीचे खींच लिया्र। इसके बाद अपने गुर्गो को बुलाकर उसकी मारपीट करवा दी। बदमाश पीडित को धमकी दे रहा था कि वह राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा का समधी है। पुलिस तो क्या सरकार भी उसका कुछ नहीं बिगाड सकती। तू यहां से जिंदा नहीं जा सकेगा और आरोपी उसकी मारपीट करते रहे।

किसी तरह वह अपनी जान बचाकर थाने तक आया। वहां भी आरोपी पहुंच गया और राज्यमंत्री की धमक में वह पुलिस को भी हड़काता रहा। राज्यमंत्री के रिश्तेदार बताने के चलते पुलिस ने उसे पकडना भी उचित नहीं समझा और वह बडी धमक के साथ थाने में बैठा रहा।

बाद में यह मामला एसपी राजेश सिंह चंदेल के संज्ञान में आया तो उन्होंने मामले में एफआईआर करने के लिए कहा इसके बाद बैराड़ पुलिस ने दोनों पक्षों पर कायमी करने की बात कहकर उसे डराया। लेकिन पीडि़त युवक ने अपने ऊपर दर्ज हुई एफआईआर से अन्याय के खिलाफ लडने वाली लड़ाई से पीछे नहीं हटा। वहीं इस मामले में एसपी राजेश सिंह चंदेल भी बचाव की मुद्रा में नजर आए। क्योंकि मामला मंत्री के समधी का होने के कारण यह स्थिति उपजी है।

पहले अदम चैक काट रही थी पुलिस, बाद में मंत्री के कनेक्शन सामने आया तो कर दी क्रॉस कायमी

बैराड़ पुलिस ने मातादीन के साथ मारपीट के मामले में अदम चैक काटा जा रहा था। लेकिन उक्त युवक अपने साथ हुई मारपीट को लेकर एफआईआर दर्ज कराने पर अड़ गया और मामला एसपी राजेश सिंह चंदेल के संज्ञान में आया तो उन्होंने मामले में एफआईआर दर्ज कराने का विश्वास दिलाया।

लेकिन इस दौरान कुछ ऐसा हुआ कि पुलिस पीडि़त युवक पर ही कायमी करने के लिए उतारू हो गई। बाद में एसपी राजेश सिंह चंदेल से इस मामले को लेकर चर्चा करने का प्रयास किया तो उन्होंने मोबाइल रिसीव नहीं किया।

हत्या सहित कई मामलों में आ चुका है मंत्री राठखेड़ा के रिश्तेदारों के नाम

पोहरी क्षेत्र में राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा की आड़ में गुंडागर्दी का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी सुरेश राठखेड़ा के रिश्तेदार हत्या सहित कई संगीन मामलों को अंजाम दे चुके हैं और उनके रिश्तेदार बिना किसी भय के क्षेत्र में दहशत फैलाए हुए हैं। मंत्री का नाम आने पर भी पुलिस भी बदमाशों पर हाथ डालने से कतरा जाती है। ऐसी स्थिति में आम लोगों का क्षेत्र में रहना दुस्वार हो गया है।

बदमाश मेरे रिश्तेदार नहीं हो सकते, उनको लगाओ जूते: मंत्री राठखेड़ा

इस पूरे मामले को लेकर जब राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा से बात की गई तो उनका कहना था कि कोई भी बदमाश उनके नाम से क्षेत्र में दहशत फैलाने का कार्य करेगा, वह फिर कोई भी हो मेरा रिश्तेदार नहीं हो सकता। ऐसे लोगों को जूते लगाओ और उन पर एफआईआर दर्ज कराओ।

जब उनसे पूछा गया कि वह उन लोगों पर एफआईआर दर्ज कराने के लिए पुलिस से कहेंगे तो उनका कहना था कि वह अभी थाने मेें बात करते हैं और ऐसे लोगों पर एफआईआर दर्ज करने के लिए भी कहेंगे। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में एक ऐसा ट्रेंड चल गया है कि जो कोई भी धाकड़ जाति से है, वह अपने आप को उनका रिश्तेदार बताता है। लेकिन मेैं ऐसे लोगों का समर्थन नहीं करता।