पति वियोग में 10 दिन के अंदर पत्नि ने भी त्यागे प्राण, पत्नि ने दवा और भोजन का त्याग कर दिया था - Shivpuri News

कोलारस। कोलारस के व्यास मौहल्ले में निवास करने वाले व्रजेश भार्गव महिला वाल विकास कर्मचारी का 10 दिन पूर्व ह्रदय गति रूक जाने के कारण दुःखद निधन हो गया था। उनके निधन के बाद उनकी पत्नि ने अन्न एवं बीमारी की दवा को लेना बंद कर दिया जिसके चलते पति वियोग में उनकी पत्नि का भी शुक्रवार की दोपहर 10 दिन के अंदर तेहरवी होने से पूर्व अपने प्राण त्याग दिये।

स्वार्गीय व्रजेश भार्गव की धर्म पत्नि श्रीमति मिथलेश उर्फ गुड्डी भार्गव उम्र करीब 57 वर्ष का अंतिम संस्कार शुक्रवार की शाम कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुये कोलारस के मुक्ति धाम पर किया गया। अस्थि संचय का कार्यक्रम रविवार की सुबह 8 बजे कोरोना गाइड लाइन के नियम अनुसार रखा गया है।

कोलारस के व्यास मौहल्ले में निवास करने वाले महिला वाल विकास के कर्मचारी व्रजेश भार्गव का ह्रदय गति रूक जाने के कारण राम नवमी के दिन बुधवार की दोपहर दुःखद निधन हो गया था। जिसके बाद उनकी धर्म पत्नि श्रीमति मिथलेश उर्म गुड्डी भार्गव पति वियोग में उसी दिन से गमगीन माहौल में भोजन एवं स्वयं की दवा का भी उपयोग नहीं कर रही थी।

उनके एक मात्र पुत्र रिंकु भार्गव ने बताया कि पिता जी के निधन को मेरी मां भुला नहीं पाई और ठीक 10 दिन के बाद जब हम परिजनों के साथ घाट पूजा करने के लिये शुक्रवार की सुबह गये हुये थे उसी दौरान लौटने पर मेरी माता जी गुड्डी भार्गव की हालत बहुत ज्यादा खराब हो चुकी थी हम लोग माता जी को कोलारस स्वास्थ्य केन्द्र लेकर आये तब तक उनके प्राण पति वियोग में दुःखित होकर निकल चुके थे।

कुल मिलाकर राम नवमी के दिन पति की ह्रदय गति रूक जाने से निधन उसके ठीक 10 दिन बाद गणेश चतुर्थी के दिन पति वियोग में पत्नि श्रीमति गुड्डी भार्गव के निधन की खबर से कोलारस ब्राह्राण समाज के साथ साथ परिजनों एवं रिस्तेदारों ने कोरोना काल के बीच 10 दिन के अंदर पति पत्नि के निधन पर शोक संवेदनायें व्यक्त की हैं।

कोलारस के कैथवाले भार्गव परिवार की ओर से सर्व ब्राह्राण समाज के संयोजक रामेश्वर भार्गव ने पूरे परिवार की ओर से गहरी शोक संवेदनाऐ व्यक्त करते हुये कोरोना काल में उनके एक मात्र पुत्र एवं पुत्रियों को ईश्वर से इस संकट की घड़ी में दुःख सहन करने की प्रार्थना की है।