शिव की नगरी में बम-बम भोले के जयकारों से गूंजे शिवालय,घंटों की मशक्कत के बाद हुए भक्तों को शिवजी के दर्शन- Shivpuri News

शिवपुरी। महाशिवरात्रि पर शहर के प्रमुख मंदिरों का हाल एक जैसा ही रहा है। मंदिरों के बाहर लंबी लाइन और महादेव के दर्शन करने के लिए लाइनों में इंतजार करते शिवभक्त दिखाई दिए। शहर के प्रमुख मंदिर सिद्धेश्वर पर सुबह से ही श्रृद्धालुओं का तांता लगना शुरू हो गया।

दोपहर तक मंदिरों में इसी तरह की भीड लगी रही। सिद्धेश्वर मंदिर के साथ-साथ नील कंठेश्वर महादेव मंदिर, इच्छापूर्ण शिवमंदिर, गुप्तेश्वर महादेव मंदिर, चंद्रमोली महादेव मंदिर सहित आसपास स्थित मंदिरों में महाशिवरात्रि की धूम रही। सुबह से ही रूद्राभिषेक और पूजा अर्चना के कार्यक्रम चलते रहे। शाम को शहर के कई स्थानों पर भांग वितरण के साथ-साथ प्रसादी वितरण भी होगा जिसके लिए शहर भर मेें पांडाल लग चुके हैं। रात्रि में मंदिरों पर भजन संध्या के कार्यक्रम भी आयोजित होंगे। वहीं कई मंदिरों पर धार्मिक आयोजन चलेंगे।

सिद्धेश्वर मंदिर पर तो यह हाल था कि यहां गर्भगृह तक पहुंचने में लोगों को लंबे समय तक इंतजार करना पड़ा और लाईन में लगकर भक्त पैदल चलकर मंदिर तक पहुंचे। शिवालयों मेें बम-बम बोलों के नारों से मंदिर प्रांगण गूंज उठे। जगह-जगह फलहार वितरण किया गया। पूरे शहर का माहौल शिवमय हो गया और लोग भक्तिभाव के साथ शिव आराधना में जुटे रहे।

भक्ति की इस धारा में भक्त कोविड के नियमों को भूल गए। न तो मंदिरों के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग नजर आई और न चेहरे पर मास्क दिखे। सिद्धेश्वर मंदिर पर बुधवार को ही सजावट शुरू हो गई थी और मंदिर के गर्भगृह को आकर्षक ढंग से सजाया गया था। सुबह जब मंदिर के पट खोले गए तो भगवान का अभिषेक किया गया और इसके बाद भगवान को दूल्हे की तहर सजाया गया।

इसके बाद मंदिर को आम भक्तों के लिए खोल दिया गया। सुबह से ही मंदिरेां के बाहर भीड़ जमा होना शुरू हो गई और दोपहर तक सैकडों की संख्या में लोग दर्शन करने पहुंचे। यह पहला मौका है जब कोरोना काल के बाद किसी त्यौहार पर मंदिरों में इतनी संख्या में भीड़ नजर आ रही है। इसके साथ ही शहर में बाबा महाकाल की बारात भी धूमधाम से निकाली गई। जिसमें भक्तों का उत्साह देखने लायक रहा। डीजे की धुन पर फूल बंगले पर विराजमान बाबा महाकाल का काफिला पूरे शहर में घूमा। इस दौरान बाबा महाकाल की सबारी पर भगवान इंद्रदेव ने जल अभिषेक किया।