उत्तराखंड त्रासदी मे शिवपुरी के युवक अभी भी लापता, प्रशासन की टीम जाएगी UK - Shivpuri News

शिवपुरी। भारत की देव भूमि उत्तराखंड में आए प्रकृति के प्रकोप का शिकार शिवपुरी जिले के 4 युवक भी हुए हैं। इन युवको को 60 घंटे बाद भी कोई जानकारी नही हैं। परिजनो के हौसलो ने भी अब जबाब दे दिया हैं। सभी लोग इन सकुशल वापसी की कामना कर रहे हैं।

शिवपुरी कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह के निर्देश पर बीते रोज प्रशासन का अमला इनके गांव पहुंचा और इनके परिजनो से मिला,बताया जा रह हैं कि इनकी तलाश करने में परिजनो के साथ प्रशासन की टीम भी इनके साथ जाऐगें,एक मिनी बस से
पुलिस और प्रशासन की टीम और परिजन के साथ पटवारी भी जाएंगे।

हादसे में गायब हुए ग्राम धमकन मेे रहने वाले भानू प्रताप सिकरवार पुत्र नाथू सिंह सिकरवार 28 वर्ष, के घर में शिवपुरी एसडीओपी सुधीर कुशवाह और एसडीएम अरविंद बाजपेई मौके पर पहुंचे और बातचीत की और परिजनो को हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया।

जानकारी मिल रही हैं कि भानू सिकरवार का बड़ा भाई दिव्यांग है। उसकी तीन बेटियां हैं, जिन्हें घटना का तो सही नहीं पता,लेकिन यह पता है कि कुछ हुआ जरूर है। वे लगातार अपने पिता के बारे में पूछ रही हैं। भानू के भाई राजेंद्र सिंह सिकरवार दीपावली के बाद भानू वहां काम करने गया था। जब उनसे पूछा गया कि आपको क्या लगता है कि आपका भाई मिल जाएगा तो राजेंद्र निशब्द हो गए और उनकी आंखे नम हो गईं।

वही इसी गांव के रहने वाले गजेंद्र सिंह पवैया पुत्र राम सिंह पवैया, 32 साल में इस सैलाब में गायब हुआ है। परिजनों ने बताया कि इनका पहले से संपर्क ओम मेटल कंपनी से था और जब 7 साल पहले मड़ीखेड़ा में काम चल रहा था तभी हमारे बच्चे इस कंपनी के संपर्क में आए और यहां काम किया।

जब यह कंपनी उत्तराखंड में काम करने गई तो वहां 22 हजार रुपए वेतन पर बुला लिया। पिछले लंबे समय से वह वहां काम रहे थे। गजेंद्र यादव की 2 बेटिया हैं जो अपने इंतजार कर रही हैं।
वही करैरा एसडीएम बी राजन नाडिया ने बताया कि नरवर में हम पुलिस अधिकारियों के साथ राकेश पुत्र मेहताब सिंह लोधी 36 साल और सोनू पुत्र सिकंदर लोधी 25 साल निवासी नरवर के घर पहुंचे और उनसे बातचीत में पता चला कि वह ओम मेटल कंपनी के लिए चमोली में बन रहे ऋषि पावर प्लांट के लिए काम कर रहे थे। एसडीएम ने कहा कि वह मिनी बस उत्तराखंड भेजेंगे जिसमें पुलिस के साथ पटवारी भी शामिल होंगे।