IG के पास पहुंचा रिटायर्ड कर्मचारी का परिवार, बोले जबरन फंसाया गया है - Shivpuri News

शिवपुरी। आज शिवपुरी में यातायात सप्ताह के दौरान शिवपुरी के पुलिस परेड ग्राउण्ड में आयोजित कार्यक्रम में कल फोरेस्ट कार्यालय में हंगामा करने बाले फोरेस्ट के कर्मचारी कैलाश नारायण भार्गव के परिजनों ने आज आईजी अंशुमन यादव को आवेदन देने पहुंचे। परंतु आईजी नहीं आए और एसपी राजेश सिंह चंदेल ने पीडित पक्ष को सुना। 

रिटार्यड फोरेस्टकर्मी कैलाश नारायण भार्गव की पत्नि सरोज भार्गव ने आईजी को बताया कि उनके रिटार्यड को 4 साल हो गए। परंतु रिटायमेंट के बाद से आज दिनांक तक डीएफओ लवित भारती उनका पीपीओं जारी नहीं कर रहे। जिसके चलते उन्हें पैंशन नहीं मिल पा रही। सरोज ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब वह डीएफओं से ग्राउण्ड में बात कर रहे थे। तो फिर इस मामले में शासकीय कार्य में बाधा कैसे लगा दी। 

इस मामले की शिकायत वह सीएम हेल्पलाईन सहित यशोधरा राजे सिंधिया से भी कर चुके थे। परंतु उनकी कोई सुनवाई नहीं होने पर वह आवेदन लेकर डीएफओं के पास पहुंचे। जहां उन्होंने डीएफओ से आत्महत्या की मंजूरी या पीपीओं जारी करने की मांग की थी। 

परंतु तभी डीएफओं ने कोई सडयंत्र करते हुए उन्हें की आरोपी बना दिया। बेटी ने आईजी से कहा कि अगर पिता को कुछ हुआ तो डीएफओं और जिला प्रसाशन जिम्मेदार होगा। परिजनों का आरोप है कि उन्हें 4 साल से पेंशन नहीं मिली। जिसका कारण है कि डीएफओं ने पीपीओ जारी नहीं किया। 

वही बेटे अर्पित भार्गव का आरोप है कि यह समझ से परे है कि पुलिस ने इस मामले में इंतनी गंभीर धाराए कैसे लगा दी। क्या वह आदतन अपराधी है। जिसपर से एसपी ने कहा कि आप कोर्ट में जाईए और वहां से जांच कराईए। जिसपर से पीडित परिवार वहां से रोते हुए बापिस लौट आया।