फोरेस्ट की जाली में फंसा तेंदुआ, रेस्क्यू कर निकाला और सुरक्षित छोड़ दिया - shivpuri news

शिवपुरी।
राष्ट्रीय उद्यान के परिक्षेत्र उत्तर की बीट झिरना की सीमा से लगे क्षेत्र में तार में फंसे तेंदुऐं को माधव राष्ट्रीय उद्यान शिवपुरी की टीम द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन कर सुरक्षित क्षेत्र में छोड़ा गया। उक्त तेंदुआ रेस्क्यू ऑपरेशन मुख्य वन संरक्षक एवं संचालक माधव राष्ट्रीय उद्यान श्री वाय.पी.सिंह के मार्गदर्शन में पूर्ण किया गया।

इस अवसर पर पार्क संचालक द्वारा सहायक संचालक श्री अनिल सोनी, वन्यप्राणी रेस्क्यू दल, श्वान दल एवं अन्य स्टाफ से रेस्क्यू ऑपरेशन के समस्त पहलुओं पर चर्चा कर उपस्थित समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सफल रेस्क्यू पर बधाई देकर उत्साहवर्धन भी किया।

माधव राष्ट्रीय उद्यान के मुख्य वन संरक्षक एवं संचालक से प्राप्त जानकारी के अनुसार गत दिवस स्थानीय कृषक श्री हरीश रैकवार द्वारा फोन पर राष्ट्रीय उद्यान के परिक्षेत्र उत्तर की बीट झिरना की सीमा से लगे क्षेत्र में एक तेंदऐं के तार में फंसने एवं दहाड़ने की सूचना मिली। जिस पर संचालक मय वन्यप्राणी रेस्क्य दल, श्वान दल एवं अन्य संबंधित स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचे। जहाँ लगभग ४ वर्ष का एक मादा तेंदआ कमर में तार में फंसा होकर दर्द से परेशान दिखाई दिया।

पार्क संचालक द्वारा फोन पर मौके की वस्तुस्थिति से प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यप्राणी) भोपाल को अवगत कराकर वन्यप्राणी को ट्रेंक्यूलाईज करने की अनुमति भी ली गई। जिस पर वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ.जितेन्द्र कुमार जाटव द्वारा तेदुऐं को ट्रेक्यूलाईज कर शरीर से क्लच वायर काटकर आवश्यक परीक्षण कर उपचार किया गया। जप्त क्लच वायर को श्वान दल के प्रशिक्षित श्वान हॉबेल को संघाकर आस-पास के क्षेत्र की सद्यन मॉनीटरिंग कराई गई।

ट्रेंक्यूलाईज तेदुऐं को स्ट्रेक्चर पर आगामी मॉनीटरिंग, ईलाज एवं परिवहन हेतु पास ही विशेष वन्यप्राणी रेस्क्यू परिवहन वाहन में रखे ट्रान्सपार्टेशन केज में रखा गया। लगभग 9 घण्टों की मॉनिटरिंग उपरान्त वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशानुसार तेंदुऐं को पार्क क्षेत्र के उसी रहवार के नजदीक ही छोड़ कर मौके पर पंचनामा भी बनाया गया।