दिन में पास आने और मुंह दिखाई पर प्रशासन ने भेजा जेल,शाम को खुले मुंह साथ में नाचे लोग - Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना के शहर में बढ़ते मामलों के बाद प्रशासन ने सख्ती बरतनी शुरू कर दी है और लोगों को समझाईश देने के लिए रोको-टोको अभियान शुरू किया है। लेकिन यह अभियान सिर्फ फोटो सेशन तक सीमित हो गया है। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी दिनभर रोको-टोको अभियान चलाकर सड़कों पर बिना मास्क के घूमने वालों और दुकानदारों पर चालानी कार्रवाई की। लेकिन शाम के समय शहर में निकलने वाली बारातों और मैरिज गार्डनों में भीड़ पर प्रशासन का कोई ध्यान नहीं रहा। 

बारातों में बाराती बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की धज्जियां उड़ाते रहे। वहीं विवाह समारोह आयोजित करने वाले लोगों ने 100 और 200 लोगों के स्थान पर 500 से 1000 लोगों को निमंत्रण देकर बुलाया और वहां भी जमकर नियमों की धज्जियां उड़ाई गई। जिसकी शिकायतें भी जिम्मेदारों तक पहुंची। लेकिन न ही पुलिस ने उन्हें रोका और न ही कोई प्रशासन का नुमाइंदा वहां पहुंचा। 

जानकारी के अनुसार पुलिस, नगर पालिका और जिला प्रशासन ने संयुक्त रूप से रोको-टोको अभियान के तहत सोमवार को माधव चौक चौराहे पर चालानी कार्रवाईयां की गई। इस दौरान ऐसे लोगों को अस्थाई जेल भेजा गया, जो बिना मास्क के बाजारों में घूम रहे थे। वहीं चार दुकानें भी सील कर दी गई। क्योंकि दुकानदार कोविड के नियमों का उल्लंघन करते पाए गए। इस कार्रवाई को लेकर चहु और प्रशंसा की गई। 

लेकिन शाम होते ही सारे नियम उस समय शिथिल हो गए। जब पुलिस और प्रशासन की नाक के नीचे बीच चौराहों पर बारातों में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई गई और बिना मास्क के बाराती डांस करते रहे। हैरत की बात तो यह रही कि बारातों के साथ-साथ मैरिज गार्डनों में भी हजारों की संख्या में लोगों को एकत्रित किया गया। 

नपा चुनाव की आहट के साथ ही नेताओं के भोज प्रारंभ, नियमों की हो रही अनदेखी 

नगर पालिका चुनाव की आहट शुरू होते ही वार्डो में पार्षद पद के दावेदारों ने अन्नकूट और अन्य धार्मिक कार्यक्रमों की आड़ में अपनी चुनावी विसात बिछानी शुरू कर दी है। वार्ड क्रमांक 31 में कांगे्रस से पार्षद पद की उम्मीदवारी ठोकने वाले नेताओं ने वहां अन्नकूट का आयोजन हजारों लोगों को एकत्रित किया और वहां सोशल डिस्टेंसिंग का कोई ख्याल नहीं रखा गया। साथ ही बिना मास्क के लोगों की भीड़ एकत्रित की गई। 

इसके बाद भी प्रशासन ने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया। जिससे ऐसे आयोजनों पर रोक लग सके। इसी तरह अन्य नेता भी जगह-जगह अन्नकूटों का आयोजन कर लोगों को रिझाने का कार्य कर रहे हैं। हाल ही में अशोक बिहार कॉलोनी, मोहनी सागर, नरेंद्र नगर सहित अन्य कॉलोनियों में कोरोना के संक्रमित निकले हैं, जो वहां आयोजित होने वाले अन्नकूट कार्यक्रमों का परिणाम हैं। अगर प्रशासन ने जल्द ही ऐसे आयोजनों पर रोक नहीं लगाई तो आने वाले समय कोरोना संक्रमण काफी हद तक लोगों को अपनी चपेट में ले लेगा।