राजनीतिक या जमीन कारोबारी का षड्यंत्र:प्रशासन ने किया कम्प्यूटर बाबा के चेले का आश्रम जमींदोज - Shivpuri News

शिवपुरी। कम्प्यूटर बाबा के बाद अब उनके चेलो पर प्रशासन ने अपनी गाज गिराना शुरू कर दी है ऐसी खबर शहर के मेडिकल कॉलेज के पीछे से आ रही हैं जहां आज प्रशासन ने मेडिकल कॉलेज के बने एक आश्रम को आज प्रशासन की एक टीम ने जमीदौज कर दिया है। बताया जा रहा हैं कि यह आश्रम कम्प्यूटर बाबा के चेले राधिका स्वामी का था। 

जानकारी के अनुसार शहर के मेडिकल कॉलेज के पीछे सरकारी भूमि पर दतिया के बाबा राधिका स्वामी ने मंदिर साहित आश्रम और कुटिया का निर्माण कर रखा था। जिसकी जानकारी मिलने के बाद मौके पर तहसीलदार भूपेंद्र कुशवाहा, टीआई बादाम सिंह यादव, नगर पालिका सीएमओ गोविंद प्रसाद भार्गव सहित अन्य अधिकारी पहुंचे। अतिक्रमण हटाओ दस्ते ने यहां मंदिर को छोड़कर अन्य कब्जे को जमींदोज कर दिया। तहसीलदार कुशवाह ने बताया कि यह कार्रवाई सरकारी भूमि पर कब्जे को लेकर अंजाम दी गई है। 

हालांकि जिला प्रशासन ने इस तरह की किसी भी बात से इनकार करते हुए कहा कि ना तो उन्हें बाबा का नाम पता है और ना ही इस तरह की कोई जानकारी है। उन्होंने तो सरकारी भूमि पर किए गए अतिक्रमण को जमींदोज किया हैं।

वही बताया जा रहा हैं कि आश्रम लीज की जमीन पर बनाया गया हैं। प्रशासन ने बाबा के रहने वाली निर्माणाधीन कुटिया को ध्वस्त किया हैं मंदिर यथावत बना हुआ है। इस अतिक्रमण को तोडने के पीछे राजनितिक कारण यहा कोई षडयंत्र स्पष्ट दिख रहा है। जिले में ऐसे कई आश्रमो की कुटिया बनी हुई हैं जो किसी सरकारी भूमि पर हैं या पट्टे की जमीन पर। 

इस आश्रम के आसपास दूर-दूर तक कोई निर्माण नही हैं और ना ही किसी भी प्रकार का वहां सरकारी निर्माण किया जा रहा है। बताया जा रहा हैं कि इस आश्रम के पीछे शहर के एक जमीन कारोबारी का नाम आ रहा हैं। इस आश्रम के पीछे उसकी जमीन हैं जो जिसमें प्लाटिंग का प्लान चल रहा हैं। अगर आश्रम को हटा दिया जाता हैं तो प्लाट की रेट उंचे हो जाऐंगें। 

इस कारण प्रशासन ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। इस अतिक्रमण को तोडने के पीछे प्रशासन की क्या मंशा हैं यह स्पष्ट नही हैं लेकिन यह तय हैं कि इस कार्रवाई से प्रशासन पर उंगली उठना अवश्य शुरू हो गई हैं। शहर पूरा का पूरा अतिक्रमण से घिरा हुआ हैं और प्रशासन एंकात में कुटिया तोडते घूम रहा हैं।