अंधे कत्ल का पर्दाफाश: पुरानी दुश्मनी का बदला लेने शराब पिलाकर की धर्मेन्द्र की हत्या - Shivpuri News

शिवपुरी।
आज शिवपुरी पुलिस ने एक अंधे कत्ल का महज 24 घंटे में ही पर्दाफाश कर दिया। इस मामले में आरोपी दोस्त ने ही पुरानी रंजिश के चलते शराब पिलाकर हत्या कर दी थी। पुलिस को प्राप्त जानकारी के अनुसार दिनाँक 20 नबम्बर 2020 को लुधावली क्षेत्र में अज्ञात लाश मिलने की सूचना प्राप्त हुई। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुँची तो ज्ञात हुआ की किसी अज्ञात आरोपी ने अज्ञात व्यक्ति का पत्थरों से सर कुचलकर हत्या कर दी है। मौके पर एफ.एस.एल.अधिकरी के साथ अति.पुलिस अधीक्षक प्रवीण भूरिया भी मौके पर पहुँचे एवं पुलिस टीम को आवश्यक निर्देश दिये।

पुलिस अधीक्षक राजेश सिहं चंदेल के निर्देशन एवं अति. पुलिस अधीक्षक श्री प्रवीण भूरिया के मार्गदर्शन में थाना देहात में अप. क्र 413/20 धारा 302 का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना प्रारम्भ की गई। पुलिस द्वारा अज्ञात शव की शिनाख्तगी प्रयास किये गये जिस पर से मृतक की शिनाख्त धर्मेन्द्र पुत्र इमरत लाल जाटव निवासी ग्राम बडौरा, थाना करैरा का होना ज्ञात हुआ। जो 19 नबंम्बर को करैरा से अपने बहनोई के इलाज के लिये 13 हजार रूपये लेकर विद्यादेवी अस्पताल मोटरसायकिल से आया था।

तब उसकी मुलाकात इसके पुराने दोस्त आरोपी से हुई, मृतक धर्मेन्द्र ने ही आरोपी को मोबाईल कर विद्यादेवी अस्पताल बुलाया था, जो बडौरा ग्राम छोडकर अपने परिवार के साथ लुधावली, शिवपुरी आकर रहने लगा था, 2 साल पहले ही आरोपी का धर्मेन्द्र जाटव से बिवाद हुआ था, तभी से आरोपी के मन में बदला लेने की रंजिश भरी हुई थी।

इन दोनों ने आपस में दारू पीने मुर्गा खाने का प्रोग्राम बनाया, 3 क्वाटर शराब पीने के बाद जब नशा चढ़ा और वही पुरानी झगड़े की चर्चा हुई तो आरोपी ने गुस्से में धर्मेन्द्र को पहले धक्का देकर जमीन पर गिरा दिया और पास ही पडे़ पत्थरों से 6-7 बार कुचलकर उसकी हत्या कर दी। आरोपी ने हत्या करना स्वीकार कर यह भी बताया कि धर्मेन्द्र उसकी पत्नी के बारे में भी गलत बोल रहा था।

हत्या करने के बाद आरोपी मृतक की मोटरसायकिल और मोबाईल लेकर भाग गया था। मोटरसायकिल उसने अपनी बहन के घर ग्राम कीनरखेड़ा, थाना बामौरकला में छिपाकर रख दी थी। आरोपी को गिरफ्तार कर मृतक की मोटर सायकिल व मोबाइल बरामद कर लिया गया है एवं प्रकरण में धारा 201 भादवि एवं हरिजन एक्ट की धारायें भी बडाई गई है।

प्रकरण के 24 घण्टे के अंदर खुलासा करने में उप निरीक्षक राजीव दुबे एवं पुलिस टीम में थाना प्रभारी देहात सुनील खेमरिया , प्रभारी कोतवाली बादाम सिहं यादव, सउनि बी.एस. जादोन, थाना प्रभारी बामौरकला उनि. रामेन्द्र चैहान एवं थाना देहात से आर. सुनील भार्गव, सुमित सेंगर, गजेन्द्र, अजीत, गुरूमीत महेन्द्र, महाराज सिहं, शिरोमणि सिहं की सराहनीय भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक शिवपुरी द्वारा पुलिस टीम को नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने की घोषणा की है।