मुक्तिधाम में खुले में पड़ी PPE किट, संक्रमण का खतरा, लगातार विस्फोट के बाद भी बेपरवाह जिम्मेदार / SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। जिले में कोरोना का ब्लास्ट लगातार जारी है। दिन प्रतिदिन कोरोना अपने सारे रिकॉर्ड तोड रहा है। परंतु उसके बाबजूद भी जिम्मेदारों के कान पर रूं तक नहीं रेंग रही है। आज जिले में अभी तक 74 कोरोना पॉजीटिव आ चुके है। अभी और जांचे आना बांकी है। परंतु प्रशासन जांच में पॉजीटिव आए मरीजों को मेडीकल की लाईन में लगा रहे है। लापरवाही ही हद तो देखों जो मरीज कोरोना की चपेट में आने से काल के गाल में समा गए उसकी अत्येष्ठि के बाद जिम्मेदार उपयोग में लाई गई पीपीई किट को खुले में फैंक गए।

आल आए कोरोना पॉजीटिवों में कोलारस के पूर्व एसडीएम मनोज गरवाल भी संक्रमित पाए गए है। लेकिन इसके बाद भी शासकीय कर्मचारी ही वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश की खुलेआम अवहेलना करने में लगे हुए हैं। क्योंकि पिछले एक सप्ताह से लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों के निधन के बाद नगर पालिका प्रबंधन मरीजों के शवों को अंतिम संस्कार हेतु मुक्तिधाम पर ले जाता हैं साथ ही उनके परिजनों को पीपीईकिट पहनाता हैं।

जब मृतक व्यक्ति के अंतिम संस्कार के बाद पीपीर्ई किट खुले में जहां अन्य नागरिक जिन ब्रचों पर बैठते हैं उन पर ही उतारकर रख कर भाग आते हैं। यह नपा प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने उजागर हुई है अभी शिवपुरी मुक्ति धाम पर कोरोना संदिग्ध मरीज की शव का 12:45 पर अंतिम संस्कार किया गया।

अंतिम संस्कार के बाद जिन पीपीटी किटों को नष्ट किया जाना चाहिए था उन पीपीटी किटों को मुक्तिधाम पर ऐसे ही खुले मे छोड़ दिया गया। मुक्ति धाम पर शहर अन्य नागरिक भी आते हैं और जिन कुर्सियों को आमजन के बैठने के लिए रखा गया हैं उन्ही कुर्सियों पर पीपीटी किटो को खुले आम फेक कर प्रशासन जान बूझ कर कोरोना को न्यौता दे रहा हैं। ऐसी ही लापरवाहियों का नतीजा है कि शहर में दिन प्रतिदिन कोरोना के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है।