कोलारस के रजिस्ट्रार ऑफिस में मनीभाई का बोलबाला: फर्जी कागजों पर हो रही हैं रजिस्ट्री / KOLARAS NEWS

कोलारस। कोलारस के रजिष्टार आफिस में जमकर फर्जीवाडे की खबर आ रही हैं। बताया जा रहा हैं कि आफिस में मनीभाई का बोलवाला है। फर्जी कागजातो पर मनीभाई के दम पर रजिष्ट्री कराई जा रही है। ऐसी कई रजिष्ट्री होने की खबर आ रही हैं।

जानकारी मिल रही हैं कि कोलारस के एक व्यक्ति रजिस्ट्री करवाने के लिए तमाम तरह के फर्जी कागजात तैयार करवा कर रजिस्ट्री करवा रहा हैं। यह मनीभाई दलालों के द्वारा रजिस्ट्रार साहब की जेब की शोभा बढ़ाते हैं यह दलाल रोड से लगी हुई जमीनों को खेतों के अंदर बताकर लाखों रुपए के स्टांप चोरी करवाकर शासन को करोड़ों रुपए का चूना लगाते हैं। इन सबके आगे राज्य शासन द्वारा स्टांप चोरी को रोकने के लिए बनाया गया। संपदा पोर्टल भी फुस्स साबित होता दिखाई पड़ रहा है। अभी जिले में हाल ही में लाखों रुपए के स्टांप चोरी कर शासन को चपत लगाने का एक बड़ा मामला सामने आया था। जिसमें आरोपियों पर कार्रवाई की गई बावजूद इसके फर्जीवाड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है।

शासन के नियमानुसार आदिवासी व्यक्ति की जमीन पर अन्य आदिवासी की रजिस्ट्री तब ही हो सकती है। जब क्रेता मध्यप्रदेश का मूलनिवासी हो जिसके लिए उसे आधार कार्ड एवं जाति प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर आना होता है। लेकिन कोलारस उप पंजीयक कार्यालय में नियमों को खूंटी पर टांग कर रजिस्ट्रीया की जाती है।

क्रेता द्वारा रजिस्ट्री कराने के लिए लगने वाले आधार कार्ड का पता अन्य प्रदेश से मध्यप्रदेश में एक प्रमाणीकरण द्वारा करा लिया जाता है। यह प्रमाणीकरण मनीभाई के लालच में ग्राम पंचायत सेक्रेटरी द्वारा दे दिया जाता है।यही नहीं मनीभाई के लालची लोगों द्वारा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से लगी हुई जमीन को अंदर बता कर स्टांप चोरी करके शासन को लाखों रुपए का चूना लगाया जाता है।