यशोधरा राजे के सामने समाजसेवियों ने रखी शहर की व्यथा, राजे बोली एक एक से होंगी सभी समस्याएं हल / SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। कैबिनेट मंत्री बनने के बाद शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया पहली बार अपने निर्वाचन क्षेत्र में आईं और उन्होंने समस्याएं जानने के लिए शहर के गणमान्य नागरिकों तथा समाजसेवियों को आमंत्रित किया। समाजसेवियों ने बड़ी साफगोई के साथ शहर की समस्याओं का उनके समक्ष वखान किया तथा अपनी पीड़ा व्यक्त की। नागरिकों का मुख्य रूप से आक्रोश नगर पालिका पर रहा।

समाजसेवी राजकुमार जैन जड़ीबूटी वालों ने यहां तक कहा कि शहर की समस्याओं की जनक नगर पालिका है। जिसके भ्रष्टाचार और अकर्मण्यता के कारण ही शिवपुरी दुर्दशा की शिकार है। बैठक में सूअर समस्या भी उठी लेकिन यशोधरा राजे ने इस मुद्दे पर इसलिए चुप्पी साधी क्योंकि बैठक में जैन समाज के राजकुमार जैन जड़ीबूटी वाले प्रकाशचंद्र जैन, सूर्यकुमार जैन अभिभाषक आदि भी मौजूद थे।

यशोधरा राजे ने कहा कि मुझे आप लोगों की भावनाओं का भी ध्यान रखना है और यह मामला हाईकोर्ट में भी है इसलिए मैं अभी कुछ इस बारे में नहीं कहूंगी। विभिन्न विभागों का समन्वय न बनने के कारण भी समस्याएं पैदा हो रही हैं। इसका जिक्र युवा अभिभाषक राहूल गंगवाल ने किया। वकौल गंगवाल, संबंधित विभागों में समन्वय बनाकर काफी हद तक समस्याओं का खात्मा किया जा सकता है।

बैठक में मीट मार्केट का मुद्दा भी उठा और कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे को बताया गया कि मीट मार्केट बनने के बाद भी शहर में खुले रूप में मांस, मटन और मुर्गे की विक्री हो रही है। सिंध जलावर्धन योजना, सीवेज प्रोजेक्ट, वायपास आदि समस्याओं की ओर भी मंत्री जी का ध्यान आकर्षित किया गया। यशोधरा राजे ने समस्याएं सुनने के बाद कहा कि आप मुझपर भरोसा कर सकते हैं। सभी समस्याएं हल होंगी। लेकिन सिर्फ मुझे आप लोगों के सहयोग और विश्वास की आवश्यकता है।

मुख्य रूप से शहर विकास के मुद्दे पर बुलाई गई बैठक में यशोधरा राजे के समक्ष जहां बैठक में उपस्थित सभी लोगों ने सिंधिया राजपरिवार का गुणगान किया तथा कहा कि आप लोगों की मेहनत के कारण ही शिवपुरी को मेडीकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, स्टेडियम, म्यूजियम आदि की उपलब्धियां हासिल हुई हैं। लेकिन नगर पालिका के कर्ताधर्ताओं के कारण 11 साल के बाद भी सिंध का पानी घर-घर तक नहीं पहुंच पाया।

यदि सिंध जलावर्धन योजना का क्रियान्वयन नगर पालिका के स्थान पर पीएचई के हाथों में होता तो यह योजना सफलतापूर्वक कभी की पूर्ण हो गई होती और नकली पाईप नहीं डाले जाते। नगर पालिका के कारण ही शहर में गंदगी का अंबार है। अभिभाषक यशस्वी चौकसे ने कहा कि शहर में चारों तरफ कचरा ही कचरा है। क्योंकि नगर पालिका ने कचरा डम्प करने के लिए कोई एक स्थान नहीं बनाया है। इस पर यशोधरा राजे ने अच्छे नगर पालिका अध्यक्ष बनाए जाने की पैरवी की।

इस पर एक समाजसेवी ने कहा कि अध्यक्ष तो आपको ही बनाना है। इस के जबाव में यशोधरा राजे ने कहा कि मुझे नहीं शहर की जनता को बनाना है। प्रत्त्युत्तर मेें जबाव आया कि अध्यक्ष बनाने के लिए मेहनत तो आप करती हैं और इस बार ऐसा अध्यक्ष बनाया जाए जो अपनी जेब न भरे बल्कि शहर का विकास करे।

जैन समाज के प्रतिनिधि मंडल ने बैठक में कहा कि भगवान शिव की इस नगरी में खुले रूप में बाजारों और गलियों में मांस और मटन की बिक्री की जा रही है। मांस निर्धारित स्थान पर नहीं बेचा जाता है। जबकि मीट मार्केट बनकर तैयार है। फूट मार्केट भी अभी शुरू नहीं की गई है। इस पर यशोधरा राजे ने नगर पालिका के अधिकारियों से शीघ्र मीट मार्केट में मांस का विक्रय किए जाने को कहा तथा यह भी निर्देश दिए कि अतिशीघ्र फूट मार्केट प्रारंभ की जाए।

समाजसेवी और व्यवसायी विष्णु गोयल ने सूअर समस्या की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि सूअरों के कारण कई दुर्घटनाएं हो चुकी हैं और अनेक लोग घायल हो चुके हैं। शिवपुरी में हजारों की संख्या में सूअर होने से न केवल शहर की सुंदरता बिगड़ रही है बल्कि गंदगी से भी शहर सराबोर हो रहा है। इस पर यशोधरा राजे ने कहा कि बैठक में जैन समाज के लोग हैं और मुझे उनकी भावनाओं को भी ध्यान रखना है।

वैसे भी यह मामला हाईकोर्ट में है इसलिए अभी मैं इस बारे में कुछ नहीं कहूंगी। निर्धारित समय के बाद भी फोरलेन वायपास न बनने के कारण बीच शहर से भारी वाहन गुजारे जाने का मामला भी बैठक में उठाया गया तथा यशोधरा राजे को अवगत कराया गया कि हाल ही में इससे दो लोगों की मौतें हो चुकी हैं। समय सीमा में योजना पूर्ण क्यों नहीं होती, यह एक बड़ी समस्या है। बैठक में जिला अस्पताल की कार्यप्रणाली पर भी हमला बोला गया।

शहर के विकास रोजगार और उद्योगों की स्थापना के लिए कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने टूरिस्ट विलेज मेें समाजसेवियों की बैठक से पूर्व चैम्बर ऑफ कॉमर्स के पदाधिकारियों से भी चर्चा की। इस बैठक के बाद चैम्बर ऑफ कॉमर्स ने यशोधरा राजे को एक ज्ञापन भी सौंपा जिसमें उन्हें बताया गया है कि शिवपुरी के फूड पार्क में उद्योग क्यों नहीं स्थापित हो पा रहे।

चैम्बर ऑफ कॉमर्स के सचिव विष्णु अग्रवाल ने उन्हें बताया कि जमीनों की कीमतों के कारण लोगों का रूझान कम है और इसमें सुधार की आवश्यकता है। चैम्बर ऑफ कॉमर्स ने शिवपुरी में उद्योगों के लिए यशोधरा राजे के प्रयासों से जो अधोसरंचना बनाई जा रही है उसका स्वागत किया। चैम्बर ऑफ कॉमर्स ने उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए मार्केटिंग की सुविधा और टैक्सों में रियायत देने की मांग की और कहा कि यदि इस सुझावों पर अमल हो गया तो शिवपुरी में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

वहीं मूलभूत सुविधाओं का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन भी इस दिशा में लाभकारी साबित होगा। बैठक में उपस्थित प्रमुख लोगों में सचिव विष्णु अग्रवाल, मुकेश भांडावत, नंदकिशोर राठी, संजय लूनावत, तरूण अग्रवाल आदि प्रमुख थे।