अफसरो ने अपनी पार्टी के​ लिए अघोषित रूप से पब्लिक के लिए बंद करवाया नेशनल पार्क:कलेक्टर भी थी उपस्थित

शिवपुरी। माधव नेशनल पार्क व सैलिंग क्लब को स्वतत्रता दिवस पर अघोषित रूप से बंद कर दिया गया। दूर-दराज क्षेत्रों से घूमने आए सैलानियों को गेट पर ही रोक दिया गया। वहां तैनात गार्ड ने घोषणा कर दी कि आज पार्क बंद है। इसी बीच मीडिया वहां पहुंची और यह खबर अंदर तक पहुंची तो सैलिंग क्लब पर चल रही अफसरों की पार्टी खत्म हो गई और एक-एक कर उनके वाहन निकल गए। 


लेकिन सैलिंग क्लब पर पार्टी की कई निशनियां छूट गईं, जिन्हें पार्क के अमले ने आनन-फानन में साफ करवाया। खास बात यह है, अफसरों की इस पार्टी के कारण स्वतंत्रता दिवस पर नेशनल पार्क घूमने आए सैलानी परेशान होते रहे। अब जिम्मेदार बहानेबाजी कर मामले से पल्ला झाड़ रहे हैं।

कोरोना के कारण स्वतंत्रता दिवस पर होने वाले कार्यक्रमों के न होने से देश की आजादी का पर्व इस बार कुछ फीका रहा। यही वजह रही कि न छुटटी का सदुपयोग करने के लिए लोगों ने पर्यटन स्थलों पर घुमने का प्लान बनाया। इनमें से कई सैलानी माधव नेशनल पार्क घूमने के लिए आए। चूंकि नेशनल पार्क का मुख्य गेट झांसी रोड पर है, इसलिए दोपहर होते-होते वहां सैलानियों की गाड़ी आना शुरू हो गईं। 

जब सैलानियों ने अंदर जाने का प्रयास किया तो वहां तैनात गार्ड प्रेमनारायण शर्मा व अन्य स्टाफ ने उन्हें यह कहकर रोक दिया कि पार्क बंद है। यह सुनकर सैलानियों ने नेशनल पार्क घूमने के लिए कटवाई गई रसीद दिखाई तो वहां तैनात स्टाफ बहानेबाजी करने लगे। 

लगभग आधा घंटा गुजरने के बाद एकाएक गेट पर तेनात गार्ड सहित अन्य स्टाफ अलर्ट हो गया और फिर नेशनल पार्क के अंदर से एक-एक कर अधिकारियों के वाहनों का काफिला निकलना शुरू हो गया, जिसमें कलेक्टर सहित आईजी सीआरपीएफ के वाहन भी शामिल रहे। जब अफसरों की टीम पार्क एरिया से रवाना हो गई, तब कहीं जाकर सैलानियों को अंदर जाने दिया गया। सैलिंग क्लब व नेशनल पार्क पर यह अघोषित प्रतिबंध दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक लगा रहा।

आनन-फानन में साफ करवाया सैलिंग क्लब

पार्क में सैलिंग क्लब को सेल्फी प्वाइंट बनाया गया है। यहां ही अफसरों की पार्टी का अरेजमेंट किया गया था। चूंकि बाहर परेशान होते सैलानी व मीडिया के पहुंचने के बाद किए गए पार्टी के अरजेमेंट की निशानियों को आनन-फानन में पार्क प्रबंधन ने मिटाया, जिसमें खाने-पीने की चीजों के अलावा पर्यटकों के लिए बनाए गए रिसॉर्ट से मंगवाए गए सोफे आदि वापस रखवाए गए।

कलेक्टर बोलीं- परिवार के साथ गए थे

स्वतंत्रता दिवस पर सैलिंग क्लब पर किसी बैठक के आयोजन के बारे में पूछा तो कलेक्टर अनुग्रहा पी बोलीं- नहीं कोई बैठक नहीं थी, वहां मैं अपने परिवार के साथ गई थीं। अन्य अधिकारियों के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि आप उन अधिकारियों से ही पूछ लें।

नेशनल पार्क प्रभारी ने यह गिनाए कारण

सैलिंग क्लब वाले गेट से होकर नेशनल पार्क में जाने वाले रास्ते पर एक रपटा लीकेज हो गया था, इसलिए वहां से सैलानियों का आवागमन रोक दिया था। सेलिंग क्लब पर अधिकारियों की पार्टी नहीं थी, वे तो यूं ही घूमने आए थे, उनके लिए बैठने की व्यवस्था की थी।
वायपी सिंह,सीसीएफ एवं प्रभारी नेशनल पार्क डायरेक्टर