सिंध की लाइन इस हफ्ते दो बार फ्रैक्चर हुई, दो मोटरों का प्रेशर सहन नहीं कर पाती / Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी के प्यासे कंठो की प्यास बुझाने वाली योजना की पाईप लाईन का स्वास्थय 2 मोटरो के प्रेशर झेलने योग्य नही हैं। डाली गई पाईप लाईन पर जब भी 2 मोटरो का प्रेशर आता हैं तो वह फैक्चर होने लगती हैं। इस हफ्ते जब 2 मोटरे एक साथ चलाई गई तो पाईप लाईन 2 बार फेक्चर हो गई,जबकि 2 मोटरो को एक साथ चलाना बहुत आवश्यक हैं क्यो कि 2 मोटरो का प्रेशर दिया जाता हैं जभी शहर में बने आवरहैड टैको पर पानी चढ पाता हैं।

बताया जा रहा हैं कि  भूरा खो के समीप हवा में लाइन उठकर क्षतिग्रस्त हुई थी तो अब डैम के समीप लाइन फूट गई है। लाइन फूटने से नगर में जल संकट गहरा गया है। 40 हजार लोग पानी के लिए परेशान हो गए।

इसके पहले बीते शनिवार को मेन लाइन हवा में उठ गई। इस वजह से पाइप लाइन टेड़ी हो गई थी जिसके बाद सप्लाई रोकनी पड़ी थी और उसे जैसे तैसे गुरुवार को ठीक किया गया जिसके बाद केवल 8 घंटे पानी की सप्लाई हो सकी थी। तब तक लाइन दोबारा फूट गई जो शनिवार तक ठीक नहीं हो पाई हैं जिसके नतीजे में शहर के वे सभी हिस्से जलसंकट का सामना कर रहे हैं जो मड़ीखेड़ा के पानी पर आश्रित रहते हैं।

शिवपुरी ग्वालियर हाइवे होते हुए मडीखेड़ा की मेन लाइन सतनवाड़ा फिल्टर पलांट तक पहुंची हैं उसके बाद लाइन नरवर रोड पर डैम तक बिछी हुई है। गुणवत्ताहीन होने के चलते मेन लाइन शुरू से ही विवादों में रही है और बार बार फूट रही है। बीते शनिवार को भी भूरा खो पर्यटन स्थल के मेन गेट के समीप मेन लाइन न सिर्फ फूट गई थी बल्की हवा में खड़ी हो गई थी। जिसके बाद संधारण कार्य पूरा करने में पांच दिन का समय लग गया था।

8 घंटे दी सप्लाई फिर फूट गई मुख्य लाइन

गुरुवार को संधारण कार्य पूरा करने के बाद मुख्य लाइन ठीक हो गई जिसके बाद मड़ीखेड़ा से फिल्टर प्लांट और फिल्टर प्लांट से सतनवाड़ा के लिए सप्लाई शुरू की गई लेकिन महज 8 घंटे ही लगातार सप्लाई हो सकी और उसके बाद लाइन दोबारा से फूट गई। जिसके नतीजे में जल सप्लाई न होने से लोगों के सामने पानी का संकट खड़ा हो गया।

रेत बिछाकर डालनी थी पाइप लाइन

मेन लाइन को रेत बिछाने के बाद डाला जाना था उसके बाद पर्याप्त दूरी पर सीमेंट के पिलर भी लाइन को सुरक्षति करने के लिए बनाए जाने थे लेकिन ऐसा कई स्थानों पर नहीं किया गया हैं। जिस जगह पर बीते रोज हवा में लाइन उठकर खड़ी हुई वहां रेत तो बिछाई ही नहीं गई बल्की लापरवाही की हद यह है कि बीती बरसात में यहां लाइन के आसपास की मिट्टी पानी में बह गई थी और लाइन ओपन ही चलाई जा रही थी। इस पर न तो भराव किया गया और न ही पिलर बनाया गया जिसके नतीजे में दो मोटर से एक साथ छोड़ा गया पानी तो लाइन प्रेशर नहीं झेल पाई और हवा में उठ गई।

40 हजार की आबादी के सामने जलसंकट

मडीखेड़ा की लाइन की सप्लाई शुरू होने के साथ ही नपा ने कई जगह नवीन नल कनेक्शन भी दे दिए हैं और सप्लाई भी शुरू कर दी है। जिसके नतीजे में नलकूपों के कनेक्शन काट दिए हैं। जिसके चलते जब मडीखेड़ा की लाइन फूटी तो जल सप्लाई बाधित हो गई। जल सप्लाई के बाधित होने से कई इलाकों में जलसंकट गहरा गया है और लोगों को पानी नहीं मिल पा रहा है। शहर की करीब 40 हजार से अधिक आबादी को लाइन फूटने के चलते जलसंकट का सामना करना पड़ रहा है।

प्रबंधक बोले- नपा को कई बार लिखे पत्र

ओम कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रबंधक महेश मिश्रा का कहना है कि पानी की मेन लाइन नपा की लापरवाही से फूट रही है। हमारे पास वो पत्र मौजूद हैं जो हमने नपा को बीते एक साल के अंदर लिखे हैं। इनमें हमने साफ लिखा है कि मेन लाइन का रखरखाव नहीं किया गया है। ऐसे में लाइन क्षतिग्रस्त हो सकती है। भूरा खो के समीप जहां लाइन फूटी और हवा में उठी वहां की मिट्टी बह गई थी। उसे हमने भराव करने के लिए कहा था लेकिन न तो भराव किया और न ही पिलर बनाए गए।

सतनवाड़ा में मकानों के नीचे दबा दी लाइन

मिश्रा का कहना है कि लापरवाही की हद यहीं तक नहीं रहीं बल्की सतनवाड़ा इलाके में जहां से मेन लाइन गुजरी हैं वहां नरवर तिराहे के समीप लाइन को लोगों ने मकानों के नीचे दबा दिया है। हमने कई बार चेतावनी पत्र लिखे कि समय रहते निर्माण कार्य रोक दें लेकिन नपा ने इसमें भी गंभीरता नहीं दिखाई और अब तो मकान बन चुके हैं। कुछ दुकानें भी मेन लाइन पर तान दी गई हैं। अगर लाइन फूट जाए तो संधारण कार्य कैसे होगा कहना मुशकिल है।

मेडीकल कॉलेज की रोड में भी दबा दी लाइन

मेडीकल कॉलेज सहित हाउसिंग बोर्ड कालोनी के जाने वाले रास्ते में भी मुख्य लाइन को दबा दिया गया है। इससे लाइन पहले ही क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं। बड़ी परेशानी के बाद उसे ठीक किया गया था। अगर भविष्य में फिर लाइन फूटी तो संधारण कार्य करना मुशकिल हो जाएगा।

मडीखेड़ा प्रभारी चौहान यूपी में आइसोलेट

कोरोना संक्रमित हुए मड़ीखेड़ा योजना के प्रभारी एई सचिन चौहान नगरपालिका शिवपुरी से छुट्टी लेकर अपने यूपी स्थित घर गए थे। जहां जांच में पॉजिटिव आ गए जिसके बाद उन्हें आइसोलेट किया गया है। इसके नतीजे में पानी की सप्लाई प्रभावित हो रही है।

दो मोटर चलने के दबाव से फूट रही लाइन

मड़ीखेड़ा योजना के तहत अब दो मोटर चलाई जा रही है और दो मोटर चलने से पानी टंकियों तक पहुंच रहा है लेकिन दो मोटर द्वारा पानी फैंकने के दबाव के चलते प्रेशर से मुख्य लाइन फूट रही है। जिसके नतीजे में कई बार जगह जगह लाइन फूट रही है।

फूटी लाइन को हमने जोड़ दिया है। पानी की सप्लाई रविवार से शुरू हो जाएगी। भूरा खो के समीप लाइन पहले दुरूस्त कर ली थी जिसके बाद डैम के समीप लाइन फूट गई थी। अब उसे ठीक कर लिया है।
रामवीर शर्मा, मड़ीखेड़ा योजना एवं इंजीनियर नपा शिवपुरी