लॉक डाउन मे ड्यूटी डाउन:कट गए खैर के 200 जिंदा पेड,डिप्टी रेंजर सहित बीट गार्ड निलंबित

शिवपुरी। लॉकडाउन में सरकारी अधिकारियो और कर्मचारियो के सम्मान में लोगो ने उनका सम्मान करने की खबरे आती रही हैं। लेकिन वन विभाग में लॉकडाउन में कुछ कर्मचारियो ने अपनी ड्यूटी डाउन कर दी। और इसका फायदा माफिया ने उठा लिया। मोहनगढ बीट में 200 से अधिक खैर के पेड कट गए। डीफओ ने डिप्टी रेंजर सहित बीट गार्ड को निलंबित कर दिया।

यही नहीं मंगलवार को सूचना लगने पर खुद डीएफओ ने शहर के गूूजर ताल के सामने स्थित एक घर से आधा ट्रॉली खैर की लकड़ियां जब्त कराईं हैं। जंगल में खैर के पेड़ कटने यह बड़ा मामला सामने आया है।

जानकारी के अनुसार मोहनगढ़ बीट के जंगल में खैर के पेड़ कटने की सूचना पर वन हरकत में आया। जंगल में लकड़ियां काटने के बाद माफिया उठाकर ले जाने की तैयारी में था, उससे पहले ही वन विभाग ने जब्त कर लीं। पेड़ काटने वाले तो पकड़े नहीं जा सके, लेकिन विभाग ने क्षेत्र के डिप्टी रेंजर और बीट गार्ड के खिलाफ कार्रवाई करके कर्तव्य की इतिश्री कर ली है। सूत्रों के अनुसार मोहनगढ़ बीट में 200 से भी अधिक खैर के पेड़ कटे हैं।

जब्त किए गए खैर के पेड़ को ढोकर लुधावली लकड़ी डिपो पर रखवाया गया है। खैर कटने की घटना में लापरवाही के चलते डिप्टी रेंजर वीरेंद्र रघुवंशी और बीट गार्ड मुकेश पाराशर को निलंबित कर दिया है।

गुजर ताल के सामने घर से लकड़ियां बरामद हुईं
मुखबिर की सूचना पर खुद डीएफओ लवित भारती गाड़ियों से गूजर ताल के पास पहुंचे। तालाब के सामने छतरी रोड किनारे मौजूद राकेश बाथम के घर में जाकर तलाशी ली। मौके से खैर की करीब 7 लकड़ियां बरामद हुईं हैं। विभाग संबंधित व्यक्ति पर भी कार्रवाई कर रहा है। वहीं मोहनगढ़ बीट में 200 से ज्यादा खैर के पेड़ कटने के मामले में विभाग के अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं।