तहसीलदार भूपेन्द्र सिंह के खिलाफ RI और पटवारियों ने मोर्चा खोला : कहा हटाओ इन्है

शिवपुरी। तहसील शिवपुरी के राजस्व निरीक्षक (आरआई) और पटवारियों ने अपने ही तहसीलदार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। आरआई-पटवारी एकजुट हुए और तहसीलदार पर मनमानी के आरोप लगाए। तहसील के एक आरआई ने आरोप लगाया कि तहसीलदार के भू माफियाओं से संबंध हैं।

बिना सर्वे नंबर की जमीन का सीमांकन कराने के लिए दबाव बना रहे हैं। वहीं तहसीलदार का कहना है कि काम नहीं करने पर नोटिस दिया था। आरआई और पटवारी अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए झूठे आरोप लगा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक शिवपुरी तहसीलदार में पदस्थ आरआई और पटवारियों ने मंगलवार को विरोध कर दिया और तहसीलदार पर गंभीर आरोप लगाए। आरआई नीतेंद्र श्रीवास्तव का कहना है कि तहसीलदार बिना वजह प्रताड़ित करते हैं। मनमाफिक काम नहीं होता तो वेतन रोकने, भत्ते नहीं दिलवाए जा रहे हैं।

सीआर खराब करने की धमकी देते हैं। तहसीलदार के भू माफियाओं से संबंध हैं। उनके हिसाब से काम कराना चाहते हैं। लेकिन पटवारी सही जवाब लिखकर देते हैं। नक्शे में नंबर नहीं है, पटवारी पर दबाव बनाकर उस जमीन का सीमांकन कराना चाह रहे हैं। हम कलेक्टर को ज्ञापन देकर तहसीलदार को दूसरी तहसील में पदस्थ करने की मांग कर रहे हैं।

तहसीलदार ने आरआई को नोटिस दिया, उसके बाद एकजुट हुए सभी: तहसीलदार
वही तहसीलदार  का कहना हैं कि  आरआई नीतेंद्र श्रीवास्तव को 16 मार्च को नोटिस दिया गया। सीएम हेल्प लाइन शिकायतों में सीमांकन का निराकरण नहीं लिया। आवेदक जगदीश, रमेश धाकड निवासी मनियर द्वारा सर्वे नंबर 122, 125, 126 के सीमांकन के लिए 28 मार्च 2019 को चालान शुल्क जमा किया गया था। तीन दिन में आरआई से स्पष्टीकरण मांगा गया। जिसमें वेतन रोकने की चेतावनी तहसीलदार द्वारा दी गई।

मुझ पर झूठे आरोप लगाए
आरआई ने सीएम हेल्प लाइन शिकायत मामले में सीमांकन नहीं किया। जिससे शिकायत एल-4 पर चल रही है। नोटिस देकर कार्रवाई की चेतावनी दी थी। इसी को लेकर आरआई और पटवारी विरोध कर रहे हैं। यह सरासर गलत है। मुझ पर झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं।
भूपेंद्र कुशवाह, तहसीलदार शिवपुरी